मणिपुरः राष्ट्रीय राजमार्ग पर आदिवासियों की नाकाबंदी जारी, जनजातीय क्षेत्रों में आपूर्ति प्रभावित

आदिवासी एकता समिति (सीओटीयू) ने कुकी बहुल पहाड़ी इलाकों में अनाज, आवश्यक वस्तुओं और दवाओं की निर्बाध और पर्याप्त आपूर्ति की मांग करते हुए सोमवार को कांगपोकपी जिले में एनएच-2 और तामेंगलोंग जिले में एनएच 37 पर कुछ स्थानों पर फिर से नाकेबंदी शुरू कर दी थी।

मणिपुर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर आदिवासियों की नाकाबंदी जारी
मणिपुर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर आदिवासियों की नाकाबंदी जारी
user

नवजीवन डेस्क

मणिपुर में हिंसा के बाद अभी गतिरोध का माहौल जारी है। आदिवासी समूहों द्वारा प्रतिद्वंद्वी समूहों पर जनजातीय क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई बाधित करने का आरोप लगाकर इंफाल-दीमापुर राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच-2) पर की गई नाकाबंदी मंगलवार को दूसरे दिन भी जारी रही। हालांकि सुरक्षा बलों ने इंफाल-जिरीबाम राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच-37) पर वाहनों की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने के लिए सुरक्षा कवर प्रदान किया।

इंफाल में एक पुलिस अधिकारी ने पुष्टि की कि आवश्यक वस्तुओं के साथ एनएच-37 पर वाहनों की आवाजाही सुनिश्चित की गई है। अधिकारी ने कहा, "सभी संवेदनशील स्थानों पर सख्त सुरक्षा उपाय किए गए हैं और वाहनों की स्वतंत्र और सुरक्षित आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए संवेदनशील हिस्सों में सुरक्षा काफिला उपलब्ध कराया गया है।"

एनएच-2 पर नाकेबंदी के कारण आदिवासी बहुल इलाकों के कई हिस्सों में आवश्यक वस्तुओं और खाद्यान्न की आपूर्ति प्रभावित हुई है। एनएच-37 पर भी कुछ हिस्सों में नाकेबंदी है, जिससे वाहनों की आवाजाही आंशिक रूप से प्रभावित हो रही है।


आदिवासी एकता समिति (सीओटीयू) ने कुकी बहुल पहाड़ी इलाकों में खाद्यान्न, आवश्यक वस्तुओं और दवाओं की निर्बाध और पर्याप्त आपूर्ति की मांग करते हुए सोमवार को कांगपोकपी जिले में एनएच-2 और तामेंगलोंग जिले में एनएच 37 पर कुछ स्थानों पर फिर से नाकेबंदी शुरू कर दी थी। अधिकारियों ने बताया कि कांगपोकपी जिले में बड़ी संख्या में पुरुषों और महिलाओं ने नाकाबंदी लागू करते हुए माल से भरे वाहनों की आवाजाही रोक दी।

सीओटीयू के महासचिव लैमिनलुन सिंगसिट ने कहा कि हमने पहले एक अल्टीमेटम दिया था कि अगर खाद्यान्न, आवश्यक वस्तुओं और जीवन रक्षक दवाओं की निर्बाध और पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित नहीं की गई तो हम 21 अगस्त से एनएच-2 और एनएच-37 दोनों को अवरुद्ध कर देंगे। एक अन्य आदिवासी संगठन, कुकी ज़ो डिफेंस फ़ोर्स ने भी घोषणा की थी कि अगर कुकी ज़ो आबादी वाले क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति नहीं की गई तो वह राजमार्ग नाकाबंदी में शामिल हो जाएगा।


एनएच-2 को मणिपुर की सतही जीवनरेखा माना जाता है। 3 मई को राज्य में जातीय हिंसा भड़कने के बाद लगभग दो महीने तक अवरुद्ध रही थी। केंद्र सरकार के हस्तक्षेप से, पिछले महीने नाकाबंदी वापस ले ली गई थी। एनएच-2 और एनएच-37 नगालैंड और असम के माध्यम से देश के बाकी हिस्सों के साथ सतही संचार बनाए रखने के लिए मणिपुर के दो महत्वपूर्ण राष्ट्रीय राजमार्ग हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */