Manipur Violence: मणिपुर में फिर हिंसा, दो समूहों के बीच गोलीबारी, जला दिए घर और स्कूल

हाल ही में कुकी समुदाय की दो महिलाओं को निर्वस्त्र कर सड़क पर परेड कराने का वीडियो सामने आया था, जिससे पूरे देस में हड़कंप मच गया था। महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाने और सामूहिक दुष्कर्म के मामले पुलिस ने अब तक 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मणिपुर में करीब तीन महीने से जारी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। ताजा हिंसा बिष्णुपुर जिले के ट्रोबुंग ग्राम पंचायत में हुई है। शनिवार देर शाम दो समूहों के बीच गोलीबारी शुरू हो गई। इस दौरान महिलाओं ने सड़क जाम कर टायर जलाए। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कुकी समुदाय के 100 से ज्यादा लोगों ने मैतेई समुदाय के कुछ घर और एक स्कूल जला दिए। मौके पर पहुंचकर सुरक्षा बलों ने हालात पर काबू किया। कुंबी से बीजेपी विधायक सनासम प्रेमचंद्र सिंह ने बताया कि यह सभी चुराचांदपुर जिले से आए थे और अचानक अटैक कर दिया।

मणिपुर में जारी हिंसा में अब तक 150 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है और कई लोग घायल हुए हैं। हाल ही में कुकी समुदाय की दो महिलाओं को निर्वस्त्र कर सड़क पर परेड कराने का वीडियो सामने आया था, जिससे पूरे देस में हड़कंप मच गया था। महिलाओं को निर्वस्त्र कर घुमाने और सामूहिक दुष्कर्म के मामले पुलिस ने अब तक 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। शनिवार को दो और आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इनमें एक की उम्र 19 साल और दूसरा जुवेनाइल है। इससे 20 जुलाई को चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था।


मणिपुर में तीन मई को हिंसा की शुरुआत चुराचांदपुर जिले से हुई थी। जो राज्य की राजधानी इंफाल के दक्षिण में करीब 63 किलोमीटर दूर है। इस जिले में कुकी आदिवासी ज्यादा हैं। गवर्नमेंट लैंड सर्वे के विरोध में 28 अप्रैल को द इंडिजेनस ट्राइबल लीडर्स फोरम ने चुराचंदपुर में 8 घंटे बंद का ऐलान किया था। देखते ही देखते इस बंद ने हिंसक रूप ले लिया। उसी रात तुइबोंग एरिया में उपद्रवियों ने वन विभाग के दफ्तर को आग के हवाले कर दिया था। 27-28 अप्रैल की हिंसा में मुख्य तौर पर पुलिस और कुकी आदिवासी आमने-सामने थे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;