पुलिस से मरकज में मिलना चाहता है तबलीगी जमात का मुखिया, जाकिर नगर में होने की सूचना पर पूरा इलाका बफर जोन घोषित

कथित रूप से फरार चल रहे तबलीगी जमात प्रमुख मौलाना साद ने क्राइम ब्रांच से जमात मुख्यालय मरकज में मिलकर जांच में सहयोग की इच्छा जताई है। इस बीच उनके जाकिर नगर इलाके में क्वारंटाइन होने की खबर पर पूरे इलाके को बफर जोन घोषित कर कई गलियों को सील कर दिया गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना संकट के बीच विवादों में आए तबलीगी जमात के कथित रूप से फरार चल रहे प्रमुख अमीर मौलाना साद कांधलवी दिल्ली के ओखला इलाके के जाकिर नगर में किसी करीबी के घर में 'होम क्वारंटाइन' हैं। यह मकान उनके एक करीबी रिश्तेदार का बताया जा रहा है। इस बीच खबर है कि मौलाना साद ने संदेश भेजवाया है कि पुलिस जब चाहे या पुलिस को जब जरुरत महसूस हो, वह क्राइम ब्रांच से मिल लेंगे। हालांकि मौलाना साद ने दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच से मरकज मुख्यालय में ही मिलने की इच्छा जाहिर की है, क्योंकि जांच से संबंधित तमाम कागजात और मौलाना के सिपहसालार जमात मुख्यालय में एक ही जगह पर मिल जाएंगे।

इस बीच शुक्रवार को मौलाना साद के दिल्ली के जाकिर नगर इलाके में होम क्वारंटाइन होने की खबर आने पर दिल्ली सरकार ने पूरे इलाके को बफर जोन घोषित कर इलाके की कुछ गलियों को सील कर दिया है। साउथ-ईस्ट दिल्ली की डीएम की ओर से जारी आदेश के तहत जाकिर नगर की गली नंबर 18 से लेकर 22 तक को सील कर दिया गय़ा है और आसपास के इलाके को भी बफर जोन घोषित कर निगरानी की जा रही है। जाकिर नगर से न्यू फ्रेंड्स कॉलनी होकर बाहर निकलने वाले रास्ते को भी पूरी तरह सील कर दिया गया है।

पुलिस से मरकज में मिलना चाहता है तबलीगी जमात का मुखिया, जाकिर नगर में होने की सूचना पर पूरा इलाका बफर जोन घोषित

बता दें कि मौलाना साद की ओर से गुरुवार को उनके बेटे सईद ने अपराध शाखा के अधिकारियों से मुलाकात कर यह बातें रखी थीं। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा टीम के कुछ सदस्यों और मौलाना साद के बेहद करीबियों के मुताबिक, मौलाना साद अमूमन रिश्तेदारियों में आने-जाने से परहेज करते हैं। दिल्ली में सिवाय मरकज मुख्यालय के उनके रहने का अपना कोई और निजी ठिकाना कोई दूसरा नहीं है। चूंकि इस वक्त कोरोना की समस्या है। कई तबलीगी जांच में कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इसीलिए मौलाना साद ने भी खुद को मजबूरी में दिल्ली के जाकिर नगर इलाके में अपने एक करीबी के घर में होम क्वारंटाइन किया हुआ है।

मौलाना साद कांधलवी के बेहद करीबी के मुताबिक, मौलाना साद फिलहाल सिर्फ और सिर्फ जाकिर नगर में ही रह रहे हैं। जाकिर नगर में किस जगह हैं? इसका पता मौलाना साद के बेटों युसुफ और सईद या फिर कुछ और परिवार के सदस्यों को ही मालूम है। हालांकि मौलाना साद के करीबी रहे शख्स का कहना है कि क्राइम ब्रांच से मौलाना साद लगातार संपर्क में हैं। अगर मौलाना साद कानून से बचकर भाग रहे होते तो फिर, उनका बेटा सईद बृहस्पतिवार को भला क्राइम ब्रांच से खुद क्यों मिलने जाता?

मौलाना साद कांधलवी के करीबी और विश्वासपात्र शख्स के मुताबिक, मौलाना साहब का बेटा सईद गुरुवार को ही क्राइम ब्रांच के पास पहुंचा। उसने मौलाना के बारे में जांच अफसर को सबकुछ बताया। मौलाना ने पुलिस के जिस दूसरे नोटिस का जबाब भिजवाया उसमें भी मौलाना ने अपने हालिया पते (जाकिर नगर) का हवाला दिया है। मौलाना ने बेटे के जरिये पुलिस से गुजारिश की है कि, जांच अगर जमात हेडक्वार्टर में ही कर ली जाए, तो तमाम लोगों के बयान और तमाम संबंधित कागजात एक ही जगह मिल जाएंगे।

आईएएनएस के अनुसार क्राइम ब्रांच की टीम के जिम्मेदार सदस्यों ने बताया कि मौलाना साद का पता-ठिकाना उनके द्वारा ही उपलब्ध करा दिया गया है। हमारे नोटिस के जवाब मिल गए हैं। जरुरत के हिसाब से कभी भी आरोपियों को बुलाकर पूछताछ शुरू कर दी जाएगी। हमने सभी आरोपियों को दिल्ली में ही रहने को कहा है। सभी के नाम-पते ठिकाने हमारे पास हैं। अभी हमें फॉरेंसिक साइंस लैबोरेट्री की कुछ रिपोर्ट्स का इंतजार है। साथ ही कुछ मोबाइल नंबरों की सीडीआर क्रॉस-कनेंटिंग का काम भी किया जा रहा है।

यह पूछे जाने पर कि मरकज मुख्यालय में छापे के दौरान क्या कुछ हाथ लगा, अपराध शाखा के एक अधिकारी ने कहा कि उन्हें कोई लैपटॉप नहीं मिला है। अभी कुछ कागजी दस्तावेज मिले हैं। कई विजिटर रजिस्टर मिले हैं। साथ ही वो वीडियो भी फॉरेंसिक साइंस लेबोरेट्री भेजी है, जिसमें जमात के कर्ताधतार्ओं को एसएचओ निजामुद्दीन चेतावनी देते हुए दिखाई दे रहे हैं। अपराध शाखा के एक अधिकारी ने कहा कि मामले में पूछताछ की लिस्ट बहुत लंबी है। मौलाना साद अपना जबाब भिजवा चुके हैं। अब हम पहले स्थानीय सरकारी निकाय, इलाका एसडीएम और स्वास्थ्य विभाग के संबंधित अफसरों-कर्मचारियों के बयान भी दर्ज कर रहे हैं। ताकि उसी आधार पर मुकदमे में नामजद आरोपियों से पूछताछ संभव हो सके।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 10 Apr 2020, 10:00 PM