अखिलेश यादव के PM बनाने वाले बयान पर मायावती बोलीं- जो M-Y गणित से नहीं बन सके CM वो दूसरों को क्या बनाएंगे पीएम

बीएसपी प्रमुख ने आगे कहा कि साथ मैं आगे सीएम और पीएम बनूं या ना बनूं, लेकिन मैं अपने कमजोर और उपेक्षित वर्गों के हितों में देश का राष्ट्रपति कतई भी नहीं बन सकती हूं। अतः अब यूपी में सपा का सीएम बनने का सपना कभी भी पूरा नहीं हो सकता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पीएम बनाने वाले बयान पर बीएसपी प्रमुख मायावती ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। मयावती ने ट्वीट कर कहा, “सपा मुखिया यूपी में मुस्लिम और यादव समाज का पूरा वोट लेकर और कई-कई पार्टियों से गठबन्धन करके भी जब अपना सीएम बनने का सपना पूरा नहीं कर सके हैं, तो फिर वो दूसरों का पीएम बनने का सपना कैसे पूरा कर सकते हैं?”

मयावती ने कहा, “इसके साथ ही, जो पिछले हुए लोकसभा आमचुनाव में, बीएसपी से गठबन्धन करके भी, यहां खुद 5 सीटें ही जीत सके, तो फिर वो बीएसपी की मुखिया को कैसे पीएम बना पायेंगे? अतः इनको ऐसे बचकाने बयान देना बंद करना चाहिए।”

बीएसपी प्रमुख ने आगे कहा, “साथ ही, मैं आगे सीएम और पीएम बनूं या ना बनूं, लेकिन मैं अपने कमजोर और उपेक्षित वर्गों के हितों में देश का राष्ट्रपति कतई भी नहीं बन सकती हूं। अतः अब यूपी में सपा का सीएम बनने का सपना कभी भी पूरा नहीं हो सकता है।”

अखिलेश यादव ने क्या कहा?

अखिलेश यादव ने कहा है कि वह भी चाहते थे कि बीएसपी सुप्रिमो मायावती प्रधानमंत्री बनें। इसलिए 2019 लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी ने बीएसपी से गठबंधन किया था। दरअसल, गुरुवार को मायावती ने कहा था कि मैं प्रधानमंत्री या यूपी के सीएम बनने का सपना देख सकती हूं, लेकिन राष्ट्रपति बनने का नहीं। वहीं, जब अखिलेश यादव से इस संबंध में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा, मैं खुश हूं। मैं भी यही चाहता था। पिछले चुनाव में इसी को लेकर गठबंधन किया गया था। अगर गठबंधन जारी रहता तो बीएसपी और डॉ. भीम राव अंबेडकर के अनुयायी देख सकते थे कि कौन प्रधानमंत्री बनता। अखिलेश यादव के इसी बयान पर अब मयावती ने प्रतिक्रिया दी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia