मेहुल चोकसी ने फिर किया भारत आने से इनकार: पूछा, आखिर क्यों है वह भारत के लिए खतरा

हजारों करोड़ रुपए के महाघोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी ने एक बार फिर भारत आने से इनकार कर दिया है। उसने सीबीआई को लिखा है कि उसका पासपोर्ट निलंबित है और पूछा है कि आखिर वह किस तरह भारत के लिए खतरा है।

फाइल फोटो : सोशल मीडिया
फाइल फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पीएनबी महाघोटाले के मुख्य आरोपियों में से एक मेहुल चोकसी ने एक बार फिर भारत वापस आकर सीबीआई की जांच में शामिल होने से इनकार कर दिया है। उसने कहा है कि उसका पासपोर्ट निलंबित कर दिया गया है। मेहुल चोकसी ने सीबीआई के नोटिस के जवाब में लिखा है कि उसका पासपोर्ट निलंबित किए जाने के सिलसिले में क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय ने उससे संपर्क नहीं किया और पासपोर्ट अभी भी निलंबित है। उसने कहा है कि सीबीआई के प्रति उसके मन में सम्‍मान है, इसीलिए वह सीबीआई के सभी नोटिस का जवाब देता रहा है।

मेहुल चोकसी ने अपने पत्र में सीबीआई से पूछा है कि आखिर किस आरोप में उसका पासपोर्ट निलंबित किया गया है। उसने कहा कि ‘मैं सीबीआई और ईडी से पूछना चाहता हूं कि मैं कैसे भारत की सुरक्षा के लिए खतरा हूं और मेरा पासपोर्ट क्‍यों निलंबित किया गया है।’ इससे पहले भी एक बार मेहुल चोकसी ने गैर जमानती वारंट जारी होने पर कहा था कि वह पहले भी बता चुका है कि स्‍वास्‍थ्‍य कारणों से वह भारत नहीं आ सकता। उसने कहा था कि उसे दिल की बीमारी है।

गौरतलब है कि सीबीआई ने 14 फरवरी को नीरव मोदी, उसकी पत्नी एमी, भाई निशाल मोदी, मेहुल चोकसी और उसकी कंपनियों डायमंड आर यूएस, सोलर एक्सपोर्ट्स और स्टेलार डायमंड के खिलाफ पहली एफआईआर दर्ज की थी। मोदी, उसका परिवार और चोकसी जनवरी के पहले सप्ताह में ही देश छोड़कर फरार हो गए थे। सीबीआई ने चोकसी के गीतांजलि समूह के खिलाफ 4,886.72 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी को लेकर 15 फरवरी को दूसरी एफआईआर दर्ज की थी।

इस बीच पीएनबी में हुए 12,700 करोड़ के घोटाले में जांच का दायरा अब दूसरी बैंकों की तरफ भी बढ़ रहा है। इस मामले में गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय यानी एसएफआईओ ने आईसीआईसीआई बैंक की चंदा कोचर और एक्सिस बैंक की शिखा शर्मा को पूछताछ के लिए तलब किया है। ये दोनों ही बैंकों के उस समूह की सदस्य थीं, जिसने नीरव मोदी के मामा मेहुल चोकसी की कंपनी गितांजलि ग्रुप के लिए 3280 करोड़ रुपये के बैंक कर्ज की मंजूरी दी थी।

नीरव मोदी, उसके मामा मेहुल चोकसी और इन दोनों से जुड़ी कंपनियों पर पीएनबी से 12,717 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है। नीरव मोदी ने की कंपनियों का कारोबार अमेरिका, यूरोप, पश्चिम एशिया और भारत सहित कई देशों में फैला है। उसने अपनी मौजूदा स्थिति के लिए नकदी की दिक्कत और माल सप्लाई करने वालों की दिक्कत का हवाला दिया है। उसने अमेरिका की एक अदालत में दिवालिया घोषित किए जाने के लिए भी अर्जी दी है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;