मोदी सरकार ने ट्विटर से कहा, बंद कर दो 355 अकाउंट, एजेंसियों ने भी भेजी 237 अकाउंट की शिकायत

इस साल के पहले छह महीने में मोदी सरकार ने कम से कम साढ़े तीन सौ ट्विटर अकाउंट बंद करने की मांग ट्विटर से की। यह खुलासा ट्विटर ने अपनी छमाही रिपोर्ट में किया है।

नवजीवन डेस्क

मोदी सरकार ने इस साल के पहले छह महीने के दौरान कम से कम 355 ट्विटर अकाउंट का जानकारी मांगी और देश की अलग-अलग एजेंसियों ने 237 ट्विटर अकाउंट को बंद करने को कहा। जिन अकाउंट को बंद करने को कहा गया उन पर गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप था।

ये सारी जानकारी ट्विटर ने अपनी छमाही पारदर्शिता रिपोर्ट यानी ट्रांस्पेरेंसी रिपोर्ट में दी है। अपनी 13वीं रिपोर्ट में ट्विटर ने कहा है कि उसने जनवरी 2018 से जुलाई 2018 के बीच भारत सरकार को 11 फीसदी मामलों में जानकारी मुहैया कराई।

गुरुवार देर रात जारी रिपोर्ट में ट्विटर ने कहा कि, “भारत के सूचना तकनीक मंत्रालय के मांग पर उसने 23 ट्विटर अकाउंट बंद कर दिए, क्योंकि उसे बताया गया था कि इन अकाउंट पर आपत्तिजनक संदेश और सामग्री पोस्ट की जा रही थी। ऐसा करना भारत के सूचना तकनीक एक्ट 2000 की धारा 69 का उल्लंघन है।“

रिपोर्ट के मुताबिक ट्विटर ने भारत की कानूनी मांग के आधार पर 19 अकाउंट बंद किए और कम से कम 498 ट्वीट वापस लिए। इनमें 9 अकाउंट अदालती आदेश से बंद किए गए। ट्विटर ने कहा कि कानून के दायरे में आने वाली भारत की मांग पर उसने 5 फीसदी मामलों में ट्विटर पर आने वाली सामग्री को वापस लिया।

ट्विटर का कहना है कि जो लोग या एजेंसियां उसकी साइट पर पोस्ट किसी सामग्री या किसी अकाउंट को बंद करने या वापस लेने की मांग करते हैं उनमें सरकार, सरकारी एजेंसियां, भेदभाव के खिलाफ काम कर रहे संगठन और लोगों के मामले देखने वाले वकील आदि शामिल होते हैं।

पिछले साल जुलाई-दिसंबर 2017 की छमाही में भारत सरकार ने 315 अकाउंट की शिकायत की जबकि कानूनी एजेंसियों ने 144 अकाउंट बंद करने की मांग की थी।

ट्विटर ने बताया कि उसे जितने मामलों के बारे में शिकायतें मिलती हैं, उनमें लगातार कमी आती जा रही है। जून में यह संख्या 8,68,349 थी, जो जून में घटकर 5,04,259 रह गई।

विश्वस्तर पर ट्विटर को सरकारों की तरफ से पहले के मुकाबले 10 फीसदी ज्यादा शिकायतें मिली हैं। इनमें कुछ अकाउंट को फौरन बंद करने की मांग भी शामिल । माइक्रो ब्लॉगिंग साइट के मुताबिक 2015 के मुकाबले यह संख्या कहीं अधिक है। उसका कहना है कि उसे पहले के मुकाबले 80 फीसदी ज्यादा शिकायतें मिल रही हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक जिन दो देशों से सबसे ज्यादा शिकायतें मिल रही हैं, उनमें रूस और तुर्की पहले नंबर पर हैं। इस रिपोर्ट के साथ ही ट्विटर ने यह जानकारी भी शामिल की है कि वह उसकी साइट पर स्पैम और गड़बड़ी की नीयत से किए जाने वाले ऑटोमेशन से निपटने के लिए क्या कर रही है।

ट्विटर का कहना है कि उसने बाल उत्पीड़न की शिकायतों के आधार पर 4,87,363 अकाउंट सस्पेंड किए, वहीं 2,05,156 अकाउंट आतंकवाद फैलाने के आरोप में बंद किए।

लोकप्रिय