मोदी सरकार मानने को तैयार ही नहीं कि मंदी है, तो इसका हल क्या निकालेगी: मनमोहन सिंह

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि मौजूदा सरकार यह मानती ही नहीं कि देश में आर्थिक मंदी है तो इसका हल क्या निकालेगी। उन्होंने कहा कि समस्या को पहचाना ही नहीं जा रहा तो इसका इलाज कैसे होगा, यही सबसे बड़ा खतरा है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर करारा प्रहार किया है। उन्होंने मोदी सरकार के दौर में आर्थिक स्थिति के रेखांकित करते हुए कहा कि “मौजूदा सरकार 'मंदी' शब्द को स्वीकार ही नहीं करती।” उन्होंने कहा कि, “असली खतरा यही है कि अगर समस्याओं की पहचान नहीं की गई तो सुधारों की कार्रवाई के लिए विश्वसनीय हल का पता लगाए जाने की संभावना नहीं है।“डॉ मनमोहन सिंह ने यह बात योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया की किताब 'बैकस्टेज' के लोकार्पण के मौके कही। उन्होंने कहा कि, “योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष ने यूपीए सरकार के अच्छे बिंदुओं के साथ ही उसकी कमजोरियों के बारे में भी लिखा है।”

उन्होंने कहा कि, “मोंटेक की यह किताब देश के भविष्य के विकास में मदद करेगी। मोंटेक ने ये भी बताया कि सत्ताधारी दल आज ये भी कह सकता है कि साल 2024-25 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की इकनॉमी सिर्फ एक इच्छा रखने वाली सोच है। इसके साथ ही ये उम्मीद रखने का कोई भी कारण नहीं है कि अगले तीन सालों में किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी।”

इस मौके पर अहलूवालिया ने देश के मौजूदा आर्थिक हाल पर कहा कि “इकनॉमी वापस पटरी पर आ सकती है। और, इसकी विकास दर आठ फीसदी तक पहुंच सकती है। पर पहले सरकार को समस्या को स्वीकारना होगा। उसका अहसास होना पड़ेगा।”

लोकप्रिय