कांग्रेस के प्रदर्शन से घबराई मोदी सरकार! दीपेंद्र हुड्डा नजरबंद, हिरासत में कई नेता, अधीर रंजन ने पूछा- क्या हम आतंकी हैं?

दिल्ली के अलग अलग जगहों पर कांग्रेस के कार्यकर्ता-नेताओं (पुरूष और महिला) द्वारा प्रदर्शन किया जा रहा है और मोदी सरकार विरोधी नारे लगा रहे हैं। उधर कांग्रेस कार्यालय के बाहर भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। कई नेताओं को पुलिस ने हिरासत में भी लिया है।

@INCIndia
@INCIndia
user

पवन नौटियाल @pawanautiyal

नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी एक बार फिर अपना बयान दर्ज कराने प्रवर्तन निदेशायल के ऑफिस पहुंचे हैं। इधर सड़कों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं के उतरने का सिलसिला जारी है। पूरे देश में राहुल गांधी के समर्थन में कांग्रेस का प्रदर्शन जारी है। बात देश की राजधानी दिल्ली की करें तो यहां भी अलग अलग जगहों पर कांग्रेस के कार्यकर्ता (पुरूष और महिला) प्रदर्शन कर रहे हैं और मोदी सरकार विरोधी नारे लगा रहे हैं। उधर कांग्रेस कार्यालय के बाहर भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। साथ ही वहां बैरिकेड्स भी लगाए गए हैं।

दिल्ली स्थित कांग्रेस दफ्तर के बाहर प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ नेताओं को पुलिस ने एक बार फिर हिरासत में लिया है। प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिए गए कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला है। अधीर रंजन ने कहा कि क्या हम आतंकवादी हैं, तुम हमसे क्यों डरते हो। चौधरी ने आगे कहा कि वे कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस बल का इस्तेमाल कर रहे हैं।

उधर, कांग्रेस की महिला नेताओं और कार्यकर्ताओं ने भी दिल्ली में पार्टी कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। महिला कार्यकर्ताओं ने हाथों में सरकार विरोधी तख्ती लेकर जमकर नारे लगाए। प्रदर्शन कर रही कांग्रेस महिला नेताओं को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

इससे पहले राहुल गांधी के प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर जाने से पहले कांग्रेस नेताओं के प्रदर्शनों के मद्देनजर पुलिस ने आज सुबह ही राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा के दिल्ली स्थित 15 तगलक लेन आवास की घेराबंदी कर दी।

वहीं सुबह छत्तीसगढ़ के सीएम और कांग्रेस नेता भूपेश बघेल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा पहली बार किसी पार्टी के कार्यकर्ता अपनी ही पार्टी के कार्यालय नहीं जा सकते है और ये स्थिति बनी क्यों, क्योंकि पिछले 8 वर्ष से देश में जो हो रहा है, उसे एक व्यक्ति लगातार केंद्र सरकार की नाकामियों को सबके सामने रख रहा है और वो राहुल गांधी हैं। उन्होंने कहा कि हमसे कहा गया कि केवल दो मुख्यमंत्री ही आ सकते हैं और लोग नहीं आ सकते हैं। किस प्रकार से हम पार्टी कार्यालय में पहुंचे, ऐसी स्थिति पहले नहीं हुई थी।

देश के हर मुद्दे को राहुल गांधी ने उठाया है और इसलिए इन्हें परेशान किया जा रहा है। इनका (भाजपा) का जो राष्ट्रवाद है वो आयातित राष्ट्रवाद है, उस राष्ट्रवाद में जो भी विरोध में हो उसे दबा दिया जाए और कुचल दिया जाए ये होता है। लेकिन उन्हें ये बहुत महंगा पड़ेगा। आप कार्यकर्ता-नेता को कार्यालय में आने से प्रतिबंध लगाा रहे हैं। आप किसी को एक सीमा तक दबा सकते हैं उससे ऊपर नहीं। पूरा देश इस घटना को बेहद करीब से देख रहा है।

उधर राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि ये 8 साल का काला अध्याय है, इतिहास में इस 8 साल को अगर देखा जाएगा तो ये काला अध्याय के रूप मे देखा जाएगा, क्योंकि इसमें संवैधानिक धज्जियां उड़ रही है, लोकतंत्र खतरे में हैं और पूरे देशवासी बहुत दुखी हैं और तनाव में हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia