कश्मीरी पंडितों की रक्षा करने में मोदी सरकार विफल, हिंसा में वृद्धि बीजेपी के उदासीन रवैये का प्रमाणः कांग्रेस

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि हम नागरिकों पर इन नृशंस हमलों की कड़ी निंदा करते हैं। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में पार्टी नेताओं और राज्य प्रभारी रजनी पाटिल को शोक संतप्त परिवारों को समर्थन देने का भी निर्देश दिया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जम्मू-कश्मीर में पिछले तीन दिनों में आतंकवादियों द्वारा पांच लोगों को मारे जाने की कांग्रेस ने निंदा करते हुए कहा कि बीजेपी घाटी में कश्मीरी पंडितों की रक्षा करने में विफल रही है। कांग्रेस ने बयान में कहा कि बीजेपी सरकार की कश्मीरी पंडित समुदाय और बड़े पैमाने पर नागरिकों की रक्षा करने में असमर्थता इस क्षेत्र में उनके द्वारा पैदा की गई अस्थिरता का प्रत्यक्ष परिणाम है। आतंकवाद में वृद्धि और हिंसा में वृद्धि इस सरकार की कमजोरियों और उदासीन रवैये का प्रमाण है।

कांग्रेस ने कहा कि पिछले 48 घंटे में एक प्रमुख कश्मीरी पंडित एम. एल. बिंदरू सहित पांच लोग आतंकी घटनाओं में मारे गए हैं। पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि हम नागरिकों पर इन नृशंस हमलों की कड़ी निंदा करते हैं। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में पार्टी नेताओं और राज्य प्रभारी रजनी पाटिल को शोक संतप्त परिवारों को समर्थन देने का भी निर्देश दिया है।

पिछले महीने राज्य का दौरा करने वाले राहुल गांधी ने भी हत्याओं की निंदा की है। हिंदी में किए गए एक ट्वीट में उन्होंने कहा, "कश्मीर में हिंसा की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। आतंकवाद ना तो नोटबंदी से रुका ना धारा 370 हटाने से। केंद्र सरकार सुरक्षा देने में पूरी तरह असफल रही है। हमारे कश्मीरी भाई-बहनों पर हो रहे इन हमलों की हम कड़ी निंदा करते हैं और मृतकों के परिवारों को शोक संवेदनाएं भेजते हैं।"

इससे पहले आज दिन में, श्रीनगर के ईदगाह इलाके में एक सरकारी उच्च माध्यमिक विद्यालय के अंदर आतंकवादियों ने दो शिक्षकों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि मारे गए शिक्षकों में स्कूल की प्रिंसिपल सुपिन्दर कौर और कश्मीरी पंडित शिक्षक दीपक चंद शामिल हैं। गुरुवार को की गई हत्या से दो दिन पहले आतंकवादियों ने एक स्थानीय पंडित एम. एल. बिंदरू, बिहार के एक गैर-स्थानीय विक्रेता और कश्मीर में एक स्थानीय टैक्सी चालक की हत्या कर दी गई थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia