बुली बाई एप मामले में मुंबई पुलिस ने की तीसरी गिरफ्तारी, नेपाल लिंक का हुआ खुलासा, कई और लोग रडार पर

इस घिनौनी साजिश के पीछे उत्तराखंड की श्वेता सिंह मास्टरमाइंड है। वह एक हैंडल के संपर्क में थी, जिसे नेपाल से संचालित किया जा रहा था, जिसके निर्देश पर उसने जाटखालसा 07 नाम से एक ट्विटर हैंडल बनाया और एक खास धर्म की महिलाओं की तस्वीरें अपलोड करने लगी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

सोशल मीडिया पर मुस्लिम महिलाओं की निलामी करने वाले 'बुली बाई' ऐप की जांच कर रही मुंबई पुलिस ने मामले में तीसरे आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि उन्होंने एक 21 वर्षीय मयंक रावल को गिरफ्तार किया है और इसके जरिये नेपाल से संबंधों का भी पता लगाया है। इससे पहले पुलिस ने इंजीनियरिंग के एक छात्र विशाल कुमार झा और श्वेता सिंह नामक महिला को गिरफ्तार किया था।

पुलिस के मुताबिक, इस घिनौनी साजिश के पीछे श्वेता मास्टरमाइंड है। वह एक हैंडल के संपर्क में थी, जिसे नेपाल से संचालित किया जा रहा है। उसके निर्देश पर उसने जाटखालसा 07 नाम से एक ट्विटर हैंडल बनाया और एक खास धर्म की महिलाओं की तस्वीरें अपलोड करने लगी। उसकी सहेली जियाउ जिससे वह सोशल मीडिया पर मिली थी, उसे यह सब करने के लिए कह रही थी। वह नेपाल में स्थित है।


मुंबई पुलिस ने श्वेता सिंह और विशाल कुमार झा का बयान दर्ज किया है। विशाल झा 10 जनवरी तक पुलिस रिमांड पर हैं जबकि श्वेता की रिमांड 5 जनवरी को खत्म होगी। मुंबई पुलिस ने पूछताछ के लिए श्वेता और विशाल का सामना भी कराया। दोनों एक दूसरे को सोशल मीडिया साइट्स के जरिए जानते थे। अब मयंक रावल का भी सामना श्वेता और विशाल से होगा। एक सूत्र ने बताया कि मामले में और गिरफ्तारियां होने की संभावना है।

अब सवाल ये है कि श्वेता कौन है? श्वेता उत्तराखंड की रहने वाली है और 10वीं पास है। उसने हाल के वर्षों में अपने माता-पिता को खो दिया है। उसके पिता की कोविड से मौत हो गई जबकि उसकी मां की 2011 में कैंसर से मौत हो गई थी। वह इंजीनियरिंग की तैयारी कर रही थी। उसकी दो बहनें हैं और परिवार प्रति माह लगभग 13,000 रुपये कमा रहा है। उन्हें कोविड अनाथ बच्चों के लिए उत्तराखंड सरकार की एक योजना वात्सल्य योजना से 3,000 रुपये मिलते हैं। उसके पिता एक निर्माण इकाई के साथ काम करते थे, जिससे परिवार को प्रति माह 10,000 रुपये मिलते थे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia