मुंबईः हनुमान चालीसा विवाद में सांसद नवनीत राणा और उनके पति को झटका, कोर्ट ने दोनों को 6 मई तक जेल भेजा

नवनीत राणा और रवि राणा ने शनिवार को सीएम उद्धव ठाकरे के घर मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने का ऐलान किया था। लेकिन उसके पहले ही शिवसेना के सैकड़ों कार्यकर्ता उनके घर पर जमा हो गए थे। बाद में मुंबई पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की धमकी देने वाली अमरावती की सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा को कोर्ट से झटका लगा है। बांद्रा कोर्ट ने दोनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। दोनों अब 6 मई तक जेल में रहेंगे। हालांकि, इस बीच 29 अप्रैल को दोनों की जमानत पर सुनवाई होगी।

दोनों को शनिवार को मुंबई पुलिस ने उस समय गिरफ्तार किया था, जब वे अपने ऐलान के अनुसार मुंबई में अजान के विरोध में सीएम उद्धव ठाकरे के आवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए निकलने वाले थे। नवनीत राणा और रवि राणा ने सीएम ठाकरे के आवास के बाहर 23 अप्रैल को हनुमान चालीसा पढ़ने की चेतावनी दी थी।

नवनीत राणा और रवि राणा ने कहा था कि वो सीएम उद्धव ठाकरे के घर मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करेंगी। उन्होंने इसके लिए शनिवार सुबह नौ बजे तक का अलेटीमेम दिया था। लेकिन शनिवार को उनके निकलने से पहले ही शिवसेना के सैकड़ों कार्यकर्ता खार स्थित उनके घर पर जमा हो गए थे, जिसके चलते वो घर से बाहर नहीं निकल पाए। इसके बाद शाम के वक्त मुंबई पुलिस ने दंपति को गिरफ्तार कर लिया था।


पुलिस ने शनिवार को सांसद नवनीत और रवि राणा को धारा 153 ए यानी धर्म के आधार पर 2 समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार किया था। रविवार को दोनों को बांद्रा कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने दोनों की कस्टडी की मांग की थी, लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया। कोर्ट ने दोनों को 6 मई तक न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया।

वहीं इस पूरे मामले पर महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील ने कहा कि हनुमान चलीसा के बहाने दंगा भड़काने की कोशिश की गई। इस पर जरूरी कारवाई की गई है। इसलिए राणा दंपति की गिरफ्तारी हुई है। गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील ने कहा कि प्रदेश में इस तरह का माहौल तैयार किया जा रहा है ताकि यहां राष्ट्रपति शासन लग जाए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia