खरगौन: मुस्लिम परिवारों ने छोड़ा इलाका, कुछ ने मस्जिद में ली पनाह, कांग्रेस का आरोप, कपिल मिश्रा ने भड़काई हिंसा

मध्य प्रदेश के खरगौन में हिंसा के बाद तनाव बरकरार है और तीसरे दिन भी कर्फ्यू लागू है। । इस बीच इलाके के तमाम मुस्लिम परिवार पलायन कर गए हैं और कुछ ने मस्जिदों में पनाह ली है। कांग्रेस का आरोप हैं हिंसा भड़काने में बीजेपी नेता कपिल मिश्रा का हाथ है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

मध्य प्रदेश के खरगौन में रामनवमी के जुलूस निकालने पर हुई हिंसा के दो दिन बाद भी हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं। इस दौरान इलाके के हजारों मुस्लिम घर छोड़कर अन्यत्र चले गए हैं। इनमें से कुछ ने नजदीकी मस्जिदों में पनाह ली है।

एक स्थानीय कार्यकर्ता द्वारा नेशनल हेरल्ड को भेजे गए वीडियो से पता चलता है कि तमाम मुस्लिम मस्जिदों के फर्श पर लेटे हुए हैं। इन्हीं में मौजूद एक महिला ने बताया कि हिंसा के दौरान दंगाइयों ने उसका घर फूंक दिया। उसने कहा, “मेरा पूरा घर जला दिया गया, मेरी तीन बेटियां हैं, हम मस्जिद में ही सो रहे हैं।”

वैसे तो कितने लोगों ने इलाके को छोड़ा है इसका कोई अधिकारिक आंकड़ा तो नहीं है लेकिन दावा किया जा रहा है कि कम से कम एक हजार मुसलमानों ने इलाका छोड़ दिया है और सुरक्षित जगहों पर चले गए हैं। इलाके के एक कांग्रेस कार्यकर्ता ने बताया कि, “कुछ लोगों ने अपने रिश्तेदारों के घर पनाह ली है तो कुछ मस्जिदों में रह रहे हैं।”

यूथ कांग्रेस नेता सोमिल नाहटा का कहना है कि बीजेपी सरकार ने पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाकर कार्रवाई की है। उन्होंने कहा, “अगर कोई दोषी है तो वह हिंदू हो या मुस्लिम, किसी को नहीं छोड़ा जाना चाहिए। दंगाइयों को फौरन गिरफ्तार किया जाना चाहिए और शिवराज सरकार का कर्तव्य है कि वह इस मामले में न्यायपूर्ण रवैया अपनाएं।” नाहटा ने आगे कहा, “लेकिन विडंबना है कि सिर्फ एक समुदाय के खिलाफ ही कार्रवाई की जा रही है। उनके घरों को, संपत्तियों को बुलडोज़र से गिराया जा रहा है, जबकि जिन लोगों ने हिंसा भड़काई उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है।”

इस दौरान कांग्रेस ने दिल्ली बीजेपी नेता कपिल मिश्रा पर निशाना साधते हुए कहा है कि उनके भाषणों से ही खरगौन में हिंसा भड़की है। ध्यान रहे कि खरगौन में 11 अप्रैल को निकाले गए रामनवमी जुलूस में कपिल मिश्रा भी शामिल थे।


वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को कपिल मिश्रा पर आरोप लगाया था कि खरगौन में हिंसा भड़काने में मिश्रा का हाथ है। उन्होंने कहा था, “कपिल मिश्रा जहां भी जाते हैं वहां हिंसा भड़कती है।” बता दें कि दिग्विजय सिंह के खिलाफ बीजेपी सरकार ने 5 जिलों में एफआईआर दर्ज कराई है। उन पर एक फेक फोटो शेयर करने का आरोप है। उन्होंने कहा कि वे सत्य के लिए लड़ाई लड़ते रहेंगे।

इस दौरान मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता के के मिश्रा ने भी कपिल मिश्रा के खरगौन दौरे के समय पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा, “कपिल मिश्रा को जानबूझकर यहां भेजा गया था ताकि इलाके और मध्य प्रदेश की शांति और भाईचारे को भंग किया जा सके। लेकिन एमपी कांग्रेस ऐसा नहीं होने देगी।”

उधर मध्य प्रदेश पुलिस ने इस बात से इनकार किया है कि इलाके से मुस्लिम परिवारों ने पलायन किया है। उनका कहना है कि यहां से कोई मुस्लिम कहीं नहीं गया है। खरगौन में तैनात एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “सिर्फ उन घरों पर बुलडोज़र चलाया गया है जो कि सरकारी जमीन पर बने हुए थे। इस कार्यवाही में एसडीएम और भू राजस्व विभाग ने नियमानुसार कार्यवाही की है।” इस अफसर ने बताया कि हिंसा के सिलसिले में अभी तक 30 एफआईआर दर्ज की गई है।

पुलिस अफसर ने बताया, “हमें इलाके में झड़प की भनक मिली थी। हमने एहतियाती इंतजाम भी किए थे और रमानवमी का जुलूस निकालने वालों से आग्रह किया था कि वे इन संकरी गलियों से होकर जुलूस न निकालें, लेकिन उन्होंने इस नहीं सुना।” इस अफसर ने बताया कि “पथराव तब शुरु हुआ जब मुसलमानों और मुस्लिम महिलाओं को निशाना बनाकर डीजे पर आपत्तिजनक नारे लगाए गए।”


इतना ही काफी नहीं था कि शिवराज सरकार ने बीजेपी के सांप्रदायिक एजेंडा को हवा देते हुए दो सदस्यीय एक कमेटी बनाई है जिसका काम हिंसा के दौरान हुई सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान का आंकलन कर लोगों से भरपाई की जाएगी। इस बारे में कल यानी 12 अप्रैल को ही एक गेजट नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया।

सरकार के मुताबिक इस ट्राइब्यूनल की अध्यक्षता रिटायर्ड जज शिवकुमार मिश्रा करेंगे और इसमें सेवानिवृत्त प्रदेश सचिव प्रभात पाराशर सदस्य होंगे। ट्राइब्यूनल को अपनी रिपोर्ट तीन महीने में जमा करने को कहा गया है।

इस दौरान खरगौन में तीसरे दिन भी कर्फ्यू और निषेधाज्ञा लागू है। हिंसा में अब तक 100 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia