दिल्ली विधानसभा में मिली रहस्यमयी सुरंग, लोगों को जल्द मिलेगा देखने का मौका, खुलेगी इतिहास की पोटरी

सुरंग के अंदर फिलहाल कुछ लाइट लगाई गई हैं, ताकि अंधेरा न रहे। वहीं सुरंग कितनी दूर तक जा सकती है, इसका अभी पता लगाना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि दिल्ली में सीवर लाइन और मेट्रो के कारण सुरंग के रास्ते बंद होने की आशंका जताई गई है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली विधानसभा में एक रहस्यमयी सुरंग का पता चला है, जो कि लाल किले तक जाती है। इस सुरंग को अब आम पर्यटकों के लिए खोलने की तैयारी की जा रही है। फिलहाल इसके इतिहास को लेकर पूर्ण रूप से पता नहीं चल सका है। अभी तक यह अनुमान लगाया जा रहा है कि अंग्रेजों के वक्त में इसका इस्तेमाल किया जाता था। वहीं अब 26 जनवरी 2022 या 15 अगस्त 2022 तक आम लोगों के लिए इसे खोलने पर काम शुरू हो चुका है।

शुक्रवार दोपहर को विधानसभा स्पीकर राम निवास गोयल ने मीडिया से इस पर जानकारी साझा की। उन्होंने कहा कि, 1993 में विधायक बनकर जब यहां आया तो एक सुरंग को लेकर मुझे जानकारी मिली। तब से इस पर मैंने जानकारी जुटाने को कहा, लेकिन ज्यादा जानकारी इकट्ठा नहीं हो सकी। हम लगातार पुराने इतिहास को खोजने की कोशिश कर रहे हैं ताकि यह आम लोगों तक पहुंचाया जा सके।


रामनिवाल गोयल ने कहा कि अंग्रेजों ने 1926 में इसे न्यायालय के रूप में बदला था और लाल किले में हमारे स्वंतत्रता सेनानी रहा करते थे, उन्हें इसी सुरंग के जरिये इधर लाया जाता था और कठघरे तक ले जाया जाता था। उन्हें जो भी सजा देनी होती थी, यहीं उसका निर्णय लिया जाता था। इसके अलावा जिन्हें फांसी की सजा दी जाती थी, वह फांसी घर भी विधानसभा में ही मौजूद है। फिलहाल इस फांसी घर को रेनोवेट कर फांसी घर का रूप देने का काम फिर शुरू किया जा रहा है, क्योंकि लंबे वक्त से यह बंद पड़ा हुआ था।

अधिकारियों ने बताया कि सुरंग के अंदर फिलहाल कुछ लाइटें लगाई गई हैं, ताकि अंधेरा न रहे। वहीं सुरंग कितनी दूर तक जा सकती है, इसका अभी पता लगाना थोड़ा मुश्किल है। दिल्ली में सीवर लाइन और मेट्रो के कारण सुरंग के रास्ते बंद होने की आशंका जताई गई है। इसलिए फिलहाल सुरंग का मुख खोल दिया गया है और जल्द ही पर्यटकों को इतिहास से जुड़े कुछ अनसुने पहलुओं को ताजा करने का मौका दिया जाएगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia