नवाब मलिक का सनसनीखेज बयान, कहा- जान का खतरा बताकर खामोश करने की कोशिश की गई, लेकिन मैं इसे अंजाम तक पहुंचाकर रहूंगा

महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने सनसनीखेज बयान दिया है। उन्होंने कहा कि समीर वानखेड़े के मामले में उन्हें खामोश करने के लिए जान का खतरा तक बताया गया, लेकिन वे इस मामले को अंजाम तक पहुंचाए बिना चैन से नहीं बैठेंगे। उन्होंने दोहराया कि वानखेड़े ने फर्जी प्रमाणपत्र से नौकरी हासिल की।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र के वरिष्ठ मंत्री नवाब मलिक ने एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर लगाए अपने आरोपों को दोहराया है। उन्होंने कहा कि, "मैं अपने इस बयान पर कायम हूं कि समीर वानखेड़े ने फर्जी जाति प्रमाणपत्र दिया और एक गरीब की नौकरी छीन ली।" उन्होंने कहा कि यह लड़ाई धोखाधड़ी के खिलाफ है न किसी धर्म या जाति के खिलाफ। नवाब मलिक ने कहा कि "मैं अरुण हलदर (अनुसूचित जाति आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष) से आग्रह करूंगा कि वे अपने पद की गरिमा का ध्यान रखें।" गौरतलब है कि अरुण हलदर ने कल ही एक बयान में समीर वानखेड़े को जाति के मामले में एक तरह से क्लीन चिट दी है।

नवाब मलिक ने आगे कहा, "जब मैंने (समीर वानखेड़े पर) आरोप लगाने शुरु किए तो कई लोगों ने मुझे ऐसा करने से रोकने की कोशिश की। उनका कहना था कि शाहरुख खान को बताया जा रहा है कि उनके बेटे को उनके बोलने की वजह सेफंसाया जा रहा है। मेरे वकील बेटे को भी अन्य वकीलों ने ब्रेनवॉश करने की कोशिश की। उसने भी मुझे रुकने के लिए कहा था।"


उन्होंने कहा कि, "कुछ लोग कहते हैं कि यह मामला ड्रग्स, पैसा और गुंडों से जुड़ा है, इसमें पड़ने से मेरी जान जा सकती है। मुझे खामोश करने की कोशिश की जा रही थी। लेकिन मैंने कहा कि मैं इस मामले को इसके अंजाम तक लेकर जाऊंगा। अगर कोई कहता है कि वह नवाब मलिक को मार देगा, तो मुझे तो उस दिन मौत आएगी जिस दिन मेरा अंत लिखा होगा।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia