झारखंड में 26 जनवरी से पहले नक्सलियों का तांडव! गिरिडीह में बराकर नदी पर बने पुल को उड़ाया

नक्सलियों ने बराकर नदी पर बने जिस उनको आईईडी विस्फोट के जरिए उड़ाया है, वह गिरिडीह के सदर प्रखंड के सिंदवारिया और लुरंगी गांव के बीच स्थित है। इस पुल का निर्माण 2018 में हुआ था। पुल के एक बड़े हिस्से के ध्वस्त हो जाने से लगभग आधा दर्जन गांव का आपस में संपर्क बाधित हो गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

झारखंड के गिरिडीह में नक्सलियों ने बराकर नदी पर बने पुल को आईईडी विस्फोट से उड़ा दिया है। शनिवार देर रात अंजाम दी गयी इस घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल है। नक्सलियों ने मौके पर घटना की जिम्मेदारी लेते हुए पर्चे भी छोड़े हैं। इसके पहले भी शुक्रवार रात को नक्सलियों ने गिरिडीह जिले में दो मोबाइल टावरों को विस्फोट के जरिए उड़ा दिया था। बता दें कि नक्सलियों ने अपने लीडर प्रशांत बोस और उनकी पत्नी शीला मरांडी की गिरफ्तारी के खिलाफ 21 जनवरी से लेकर 26 जनवरी तक प्रतिरोध सप्ताह मनाने का एलान किया है। इसे लेकर झारखंड और बिहार की पुलिस ने अलर्ट जारी किया है, लेकिन तमाम चौकसी के बावजूद नक्सलियों ने दो दिनों में दो घटनाओं को अंजाम दिया है।

शनिवार रात नक्सलियों ने बराकर नदी पर बने जिस उनको आईईडी विस्फोट के जरिए उड़ाया है, वह गिरिडीह के सदर प्रखंड के सिंदवारिया और लुरंगी गांव के बीच स्थित है। इस पुल का निर्माण 2018 में हुआ था। पुल के एक बड़े हिस्से के ध्वस्त हो जाने से लगभग आधा दर्जन गांव का आपस में संपर्क बाधित हो गया है। शनिवार देर रात जब तेज आवाज के साथ विस्फोट हुआ तो लोग दहशत में आ गए। बताया जा रहा है कि पूर्ण उड़ाने पहुंचे माओवादियों की संख्या लगभग 50 थी। नक्सलियों के जाने के बाद स्थानीय पुलिस को इसकी सूचना दी गई। खुफिया विभाग ने पहले ही आशंका जाहिर की थी कि प्रतिरोध सप्ताह के दौरान नक्सली सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचा सकते हैं और हिंसक घटनाओं को अंजाम दे सकते हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia