NCB की एसआईटी ने क्रूज ड्रग्स केस की जांच संभाली, कई स्थलों का किया दौरा, आर्यन समेत 7 को भेजा समन

एसआईटी ने मामले में सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन और उनकी मैनेजर पूजा ददलानी सहित सात आरोपियों या गवाहों को समन भेजा है। हालांकि, आर्यन और पूजा, दोनों खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए पेश नहीं हुए। उनके बाद में एसआईटी के सामने पेश होने की संभावना है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मुंबई के क्रूज जहाज पर रेव पार्टी और ड्रग्स मामलों की जांच के लिए नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का एक विशेष जांच दल (एसआईटी) नई दिल्ली से मुंबई पहुंच गया। एसआईटी ने आज अंतर्राष्ट्रीय क्रूज टर्मिनल का भी दौरा किया, जहां एनसीबी ने 2 अक्टूबर को एक कथित रेव पार्टी पर छापा मारा था। इसके अलावा टीम फीनिक्स मॉल के पास लोअर परेल में एक स्थान पर भी गई, जहां गवाह प्रभाकर सैल ने आरोप लगाया था कि पूजा ददलानी ने सैम डिसूजा और के.पी. गोसावी को 50 लाख रुपये का एक पैकेट सौंपा था।

एनसीबी के वरिष्ठ अधिकारी संजय कुमार सिंह की अध्यक्षता वाली एसआईटी ने मामले में बॉलीवुड मेगास्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन और उनकी मैनेजर पूजा ददलानी सहित कम से कम सात आरोपियों या गवाहों को समन भेजा है। हालांकि, आर्यन खान और पूजा, दोनों आज खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए पेश नहीं हुए। उनके बाद में एनसीबी-एसआईटी के सामने पेश होने की संभावना है।


टीम की योजना एनसीबी के स्वतंत्र गवाहों में से एक और गोसावी के अंगरक्षक सैल का बयान दर्ज करने की है। वह दूसरा स्वतंत्र गवाह है, जिसे अब महाराष्ट्र पुलिस ने गिरफ्तार किया है। सैल ने एक हलफनामा जारी कर एक बड़ी सनसनी पैदा कर दी थी, जिसमें दावा किया गया था कि उसने शाहरुख खान के साथ 25 करोड़ रुपये के सौदे की बात सुनी थी, जिसमें से 8 करोड़ रुपये एनसीबी के मुंबई क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े को मिलने थे।

हालांकि वानखेड़े ने आरोपों का जोरदार खंडन किया। एनसीबी ने मामले पर कड़ा संज्ञान लेते हुए आरोपों की जांच का आदेश देने के साथ ही कॉर्डेलिया क्रूज पर छापेमारी सहित मुंबई एनसीबी के आधा दर्जन मामलों की जांच अपने हाथ में लेने के लिए एक एसआईटी का गठन कर दिया।

इस मामले में डिसूजा का नाम भी शामिल है। उसने बॉम्बे हाईकोर्ट के समक्ष दायर अपनी अग्रिम जमानत याचिका में कहा कि गोसावी ने आर्यन खान की रिहाई के लिए पूजा ददलानी से कथित तौर पर 50 लाख रुपये लिए थे। अक्टूबर के अंत में, ज्ञानेश्वर सिंह के नेतृत्व में एनसीबी के एक सतर्कता जांच दल ने जबरन वसूली और भुगतान के आरोपों की जांच के लिए कुछ दिनों के लिए मुंबई में डेरा डाला था, लेकिन यह दल सैल सहित कई प्रमुख व्यक्तियों का बयान दर्ज नहीं कर सका था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia