कोरोना काल में जब क्राइम कैपिटल बना है यूपी, आम दिनों में तो टूट गए होते सारे रिकॉर्ड-अजय लल्लू का योगी सरकार पर हमला

एनसीआरबी के आंकड़े सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने योगी सरकार पर हमला बोला है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा है कि जब कोरोना काल में यूपी में अपराध का यह हाल है तो सामान्य दिनों में तो सारे अपराध में नंबर वन होता यूपी।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो – एनसीआरबी ने देश भर में 2020 के दौरान हुए अपराधों का लेखाजोखा बुधवार को जारी किया। इसमें राज्यवार अपराध के आंकड़े भी दिए गए हैं जिससे सामने आया है कि हत्याओं के मामले में उत्तर प्रदेश नंबर एक पर ही वहीं महिलाओं के प्रति अपराध और अपहरण की वारदातें भी कम नहीं हैं। इन्हीं आंकड़ों पर कांग्रेस ने यूपी में योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार पर तीखा हमला बोला है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा है कि जब कोरोना काल में उत्तर प्रदेश में अपराध का यह हाल है तो सोचिए कि सामान्य दिनों में क्या होता। उन्होंने कहा कि ऐसे में तो उत्तर प्रदेश अपराध की हर केटेगरी में नंबर वन होता।

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि सामान्य दिनों में तो अपराध के सारे रिकॉर्ड टूट गए होते। उन्होंने कहा कि एनसीआरबी के आंकड़े सामने आने के बाद भयावह तस्वीर का सामना करने का साहस योगी में अब नहीं होगा, लेकिन बेशर्मी, निर्लज्जता की सीमाएं तोड़ते हुए यह सरकारी खजाने के धन से असली आंकड़ों को छिपाकर झूठ का प्रचार करने में रिकार्ड बना रही है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री के सारे दावे खोखले साबित हो रहे हैं। उन्होंन कहा कि, “मुख्यमंत्री ने अनेक बार कहा कि अपराधी जेल में है या राज्य छोड़ गए हैं, तो अब वह स्वयं बताएं कि जब अपराधी है ही नहीं तो क्या हत्या अपराध उत्तर प्रदेश में भूत-प्रेत कर रहे है?” उन्होंने कहा कि बीजेपी ने उत्तर प्रदेश को जंगलराज में धकेल दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि हत्यारों को पुलिस अभिरक्षा से छुड़ाने से लेकर सेक्स रैकेट तक चलाने में बीजेपी नेताओं के नाम सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी के 114 विधायक दागी है। वहीं 85 विधायकों पर गंभीर मामले दर्ज हैं।

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि “जब सत्ता का संचालन अपराधी करेंगें तो यही स्थिति होनी है। प्रदेश में हर घंटे महिलाओं के साथ साथ आपराधिक घटनाएं हो रही है, प्रतिदिन आठ बलात्कार, बच्चियों के साथ प्रतिदिन 55 अपराध और यौन शोषण के साथ-साथ दलित समुदाय के साथ 32 आपराधिक घटनाएं होती है। बीजेपी के इस जंगल राज में लगभग 20 साधुओं व मंदिरों के पुजारियों की हत्या, सत्ता संरक्षण में बिकती जहरीली शराब के सेवन से 500 से अधिक व्यक्तियों की मौत के साथ लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ पत्रकारिता से जुड़े पत्रकारों पर एक वर्ष में 93 जानलेवा हमलों के साथ अनेक पत्रकारों की हत्या हो गयी।“ उन्होंने कहा कि कोराना काल खंड के दौरान आए एनसीआरबी के आंकड़े दिल दहला देने वाले हैं।

एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक 2020 में लॉकडाउन और कोरोना महामारी के बावजूद दुष्कर्म के मामलों में विशेष अंतर नहीं आया। 2020 में दुष्कर्म के 28,046 के मामले दर्ज हुए, इन पीड़ितों में 25,498 वयस्क, जबकि 2,655 पीड़ित 18 साल से कम उम्र की थीं। अजय कुमार लल्लू ने कहा कि हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश राज्यों के चार्ट में सबसे ऊपर है। फिर भी योगी सरकार यूपी के अपराध मुक्त होने का दावा करती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia