निर्भया केस: फांसी से बचने को दोषी विनय का नया पैंतरा, कोर्ट में बोला- गंभीर बीमारी से ग्रस्त हूं, इलाज की जरूरत

निर्भया गैंगरेप के दोषी फांसी से बचने के लिए हर दिन कोई न कोई नया पैंतरा आजमा रहे हैं। इस क्रम में दोषी विनय शर्मा ने पटियाला हाउस कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है, जिसमें उसकी मानसिक स्थिति का हवाला देते हुए समुचित इलाज की मांग की गई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

निर्भया गैंगरेप के दोषी फांसी से बचने के लिए हर दिन कोई न कोई नया पैंतरा आजमा रहे हैं। इस क्रम में दोषी विनय शर्मा ने पटियाला हाउस कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है, जिसमें उसकी मानसिक स्थिति का हवाला देते हुए समुचित इलाज की मांग की गई है। पटियाला हाउस कोर्ट में वकील एपी सिंह ने यह याचिका दायर की। याचिका में कहा गया है कि दोषी विनय के सिर और हाथ में चोट लगी है। वह मानसिक बीमारी से ग्रस्त है और किसी को पहचान नहीं पा रहा है। इस पर कोर्ट ने तिहाड़ जेल प्रशासन से तुरंत इलाज उपलब्‍ध कराने को कहा है। शनिवार दोपहर 12 बजे इस मामले की सुनवाई होगी।

अर्जी में कहा गया है कि विनय शर्मा चोट लगने के बाद अपनी मां तक को नहीं पहचान पा रहा है। वकील की तरफ से कहा गया है कि उसे गंभीर मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया हो सकती है। ऐसे में उसका मेडिकल चेक अप करवाया जाए और उसकी रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल हो।

इस याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट ने तिहाड़ जेल को कहा कि दोषी विनय का ट्रीटमेंट कराया जाए। कोर्ट ने तिहाड़ जेल को निर्देश दिया है कि वो दोषी विनय शर्मा का इलाज कराए। कोर्ट ने कहा है कि शनिवार को इस मामले में वो दोबारा सुनवाई करेंगे।

बता दें कि 16 फरवरी को विनय ने तिहाड़ जेल में अपना सिर दीवार पर मार दिया था। इस कारण वह चोटिल हो गया था। हालांकि, उसको मामूली चोट आई थी।

गौरतलब है कि दोषियों को 3 मार्च को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी। इससे पहले भी दो बार डेथ वारंट जारी हो चुका है। इससे पहले कोर्ट ने 22 जनवरी का डेथ वारंट जारी किया था जिसे बाद में रद्द कर दिया गया। कोर्ट ने एक बार फिर 1 फरवरी का डेथ वारंट जारी किया। इसे भी कानूनी पेचीदगियों के कारण रद्द करना पड़ा। अब इस मामले में एक बार फिर नया डेथ वारंट जारी किया गया है।

लोकप्रिय