राहत भरी खबर! आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ज्‍यादा नौकरियों को प्रभावित नहीं कर पाएगा, शोध में दावा

एमआईटी के कंप्यूटर साइंस एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस लेबोरेटरी (सीएसएआईएल) द्वारा किए गए एक हालिया शोध में जांच की गई कि क्या एआई मनुष्यों की तुलना में अधिक कुशलता से कार्य कर सकता है और क्या व्यवसायों के लिए मानव श्रम को एआई के साथ बदलना लागत प्रभावी है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ज्‍यादा नौकरियों को प्रभावित नहीं कर पाएगा, शोध में दावा
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ज्‍यादा नौकरियों को प्रभावित नहीं कर पाएगा, शोध में दावा
user

नवजीवन डेस्क

जहां दुनिया भर के शोधकर्ता आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के कारण जल्द ही नौकरियां खत्म होने की उम्मीद कर रहे हैं, वहीं एक शोध में यह बात सामने आई है कि एआई ज्‍यादा नौकरियों को प्रभावित नहीं कर पाएगी। एमआईटी के कंप्यूटर साइंस एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस लेबोरेटरी (सीएसएआईएल) द्वारा किए गए एक हालिया शोध में जांच की गई कि क्या एआई मनुष्यों की तुलना में अधिक कुशलता से कार्य कर सकता है और क्या व्यवसायों के लिए मानव श्रम को एआई के साथ बदलना लागत प्रभावी है।

शोध में श्रम बाजार में एआई कार्यान्वयन के व्यापक प्रभावों को ध्यान में रखा गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि कंप्यूटर विजन एआई वर्तमान में उन कार्यों को स्वचालित कर सकता है जो कृषि को छोड़कर अमेरिकी अर्थव्यवस्था में श्रमिकों के वेतन का 1.6 प्रतिशत बनाते हैं। हालांकि पूरी अर्थव्यवस्था के 0.4 प्रतिशत के बराबर उन वेतनों का केवल 23 प्रतिशत ही कंपनियों के लिए मौजूदा लागत पर मानव श्रमिकों को काम पर रखने के बजाय स्वचालित करना सस्ता होगा।


शोध लेखकों ने कहा, "हमने पाया है कि आज की कीमत पर अमेरिकी व्यवसाय "एआई एक्सपोजर" वाले अधिकांश विजन कार्यों को स्वचालित नहीं करने का विकल्प चुनेंगे और विजन कार्यों के लिए भुगतान किए जाने वाले श्रमिकों के वेतन का केवल 23 प्रतिशत स्वचालित करना आकर्षक होगा।" उन्‍होंने कहा, ''कुल मिलाकर हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि एआई नौकरी स्थानांतरण संतोषजनक लेकिन धीरे-धीरे होगा और इसलिए बेरोजगारी के प्रभावों को कम करने के लिए नीति और पुनर्प्रशिक्षण की गुंजाइश है।''

अध्ययन में उन दृष्टि कार्यों के उदाहरण शामिल थे, जिन्हें एआई हासिल कर सकता है, जिसमें अस्पताल के नैदानिक उपकरणों से छवियों का विश्लेषण करना या ट्रे की जांच करना शामिल है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनमें सही वस्तुएं हैं। शोधकर्ताओं ने कर्मचारियों का उनके कार्यों का हिस्सा निर्धारित करने के लिए सर्वेक्षण किया जिन्हें कंप्यूटर विजन द्वारा पूरा किया जा सकता है। बाद में उन्होंने लागत प्रभावशीलता का आकलन करने के लिए मॉडल विकसित किए।


उन्होंने पाया कि श्रमिकों को बदलने के लिए एआई विज़ुअल डिटेक्शन का उपयोग करना शायद ही कभी सार्थक होगा। उन्होंने पाया कि औसत कर्मचारी एक ऐसी फर्म में काम करता है जहां किसी भी विजन कार्य को स्वचालित करना लागत प्रभावी नहीं है। यहां तक कि 5,000 कर्मचारियों वाली एक फर्म यानी अमेरिका में 99.9 प्रतिशत से बड़ी कंपनियां मौजूदा लागत संरचना पर अपने मौजूदा विजन श्रम के दसवें हिस्से से भी कम लागत को प्रभावी ढंग से स्वचालित कर सकती हैं।

इस अध्ययन ने स्वीकार किया कि एआई की लागत समय के साथ कम हो जाएगी लेकिन लेखकों को नहीं लगता कि यह इतनी जल्दी ऐसा करेगा जैसा कि कुछ ने सुझाव दिया है। उन्होंने यह भी भविष्यवाणी की है कि एआई को इस प्रकार का बड़ा प्रभाव डालने में कुछ समय लगेगा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;