नीतीश की JDU ने छोड़ी बिहार के लिए विशेष दर्जे की मांग, तेजस्वी ने दिया नया फॉर्मूला, बताया कैसे मिलेगा

तेजस्वी ने कहा कि मैंने पहले ही कहा था नीतीश जी थक चुके हैं। अब तो उनकी पार्टी स्वयं मान रही है कि उनके साथ साथ पार्टी भी थक चुकी है। इन्हें बिहार की नहीं सिर्फ और सिर्फ कुर्सी की चिंता है। अगर नहीं होती तो इतने अपमान के बाद भी कुर्सी से नहीं चिपके रहते।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग सियासी दलों की काफी पुरानी मांग है। इस बीच, सत्ताधारी जेडीयू ने इस पुरानी मांग को छोड़ देने की घोषणा कर दी है, जिसके बाद राज्य में एकबार फिर इस मुद्दे को लेकर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है। सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) ने इस एजेंडे पर कायम रहने की बात करते हुए कहा कि संघर्ष जारी रहेगा। वहीं बीजेपी का मानना है कि अब मांगने की जरूरत ही नहीं है।

इस बीच राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने विशेष राज्य के दर्जे के लिए नया फार्मूला देते हुए दावा किया कि महागठबंधन बिहार की लोकसभा की 40 में से 39 सीटें जीतता है तो जो भी प्रधानमंत्री होंगे, स्वयं पटना आकर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की घोषणा करेंगे। तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश पर तंज कसते हुए सवालिया लहजे में कहा कि पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा नहीं दिला पाए वो, मुख्यमंत्री बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्या दिला पाएंगे? क्या यही 40 में से 39 सांसदों वाला डबल इंजन है?

विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव कहते हैं कि 2024 में अगर हमारा गठबंधन बिहार की लोकसभा की 40 में से 39 सीटें जीतता है तो जो भी प्रधानमंत्री होंगे, स्वयं पटना आकर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की घोषणा करेंगे। उन्होंने कहा कि हम नीति, सिद्धांत, सरोकार, विचार और वादे पर अडिग रहते हैं। हमारी रीढ़ की हड्डी सीधी है। हम जो कहते हैं वो करते हैं।

तेजस्वी यादव ने कहा, "मैंने पहले ही कहा था नीतीश जी थक चुके हैं। अब तो उनकी पार्टी स्वयं मान रही है कि मुख्यमंत्री के साथ साथ पार्टी भी थक चुकी है। इन्हें बिहार की नहीं सिर्फ और सिर्फ कुर्सी की चिंता है। अगर कुर्सी की चिंता नहीं होती तो इतने विरोधाभासों और अपमान के बाद भी कुर्सी से नहीं चिपके रहते।"


इधर, एनडीए में शामिल हम ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर संघर्ष जारी रखने की बात कही है। हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने मंगलवार को कहा कि विशेष राज्य के दर्जे के मामले पर जिन्हें पीछे हटना है हट जाएं, लेकिन हम इसको लेकर संघर्ष जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि बिहार के विकास के लिए यह काफी जरूरी है। हालांकि, उन्होंने सीएम नीतीश कुमार से अनुरोध करते हुए कहा कि वे इस मामले पर एक शिष्टमंडल बनाएं और फिर से प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की जाए। उन्होंने कहा कि यह सदन से पारित मुद्दा है, हम कैसे हार मान लें।

इधर, राज्य के पथ निर्माण मंत्री और बीजेपी के नेता नितिन नवीन ने कहा कि बिहार को केंद्र से या नरेंद्र मोदी की सरकार से मांगने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि बिहार के विकास के लिए विशेष पैकेज के तहत काम हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्यों को अब आत्मनिर्भर बनाने का काम हो रहा है।

बता दें कि इससे पहले जेडीयू के वरिष्ठ नेता और राज्य सरकार में मंत्री विजेंद्र यादव ने सोमवार को कहा था कि बिहार को विशेष राज्य के दर्जे की मांग करते-करते काफी समय बीत गया है। इसके लिए कमेटी का भी गठन किया गया, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। उन्होंने कहा कि मांग की भी एक सीमा होती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia