हरियाणा में अब सभी स्कूल 30 नवंबर तक बंद, छात्रों के पॉजिटिव होने पर खट्टर सरकार ने बदला फैसला

ये फैसला राज्य में बड़े पैमाने पर छात्रों के कोरोना संक्रमित पाए जाने पर लिया गया है। दरअसल हरियाणा में 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए 2 नवंबर से स्कूल खोल दिए गए थे। हाल में जब छात्रों की जांच की गई तो 300 से अधिक छात्र कोरोना संक्रमित पाए गए थे।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

आसिफ एस खान

हरियाणा में स्कूल खोले जाने पर छात्रों के बड़े पैमाने पर कोरोनो वायरस से संक्रमित पाए जाने पर राज्य सरकार ने राज्य के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को 30 नवंबर तक बंद करने का आदेश दिया है। हरियाणा स्कूल शिक्षा बोर्ड ने सभी निजी और सरकारी स्कूलों को दो हफ्ते तक बंद रखने के लिए कहा है। छात्रों के अलावा अध्यापकों के भी स्कूल आने पर रोक रहेगी। इस दौरान सभी स्कूलों को सैनिटाइज किया जाएगा। इस फैसले का उल्लघंन होने पर स्कूल प्रमुख जिम्मेदार होंगे।

ये फैसला राज्य में बड़े पैमाने पर छात्रों के कोरोना संक्रमित होने पर लिया गया है। दरअसल हरियाणा में नौवीं से बारहवीं तक के छात्रों के लिए 2 नवंबर से स्कूलों को फिर से खोल दिया गया था। जिसके बाद स्कूलों में छात्रों की कोरोना जांच की गई, जिसमें 300 से अधिक छात्र कोरोना संक्रमित पाए गए थे। छात्रों के साथ ही कई शिक्षक भी कोरोना संक्रमित पाए गए थे, जिसके बाद हड़कंप मच गया था।

इस लापरवाही पर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने खट्टर सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट में बिना जरूरी एहतियात बरते स्कूल खोलने के लिए खट्टर सरकार ने जल्दबाजी दिखाई। इसी का नतीजा है कि राज्य के सैकड़ों बच्चे कोरोना की चपेट में आ गए। बच्चों के साथ ही कई शिक्षक और स्कूल स्टाफ भी संक्रमित हो गए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर पहले एहतियाती कदम उठाने चाहिए थे और उसके बाद स्कूल खोलने चाहिए थे।

लोकप्रिय
next