सीबीआई से अनुमति वापस लेने वाला 8वां राज्य बना झारखंड, अब जांच से पहले सोरेन सरकार से लेनी होगी इजाजत

झारखंड सरकार के इस आदेश के बाद अब सीबीआई को राज्य में किसी भी मामले की जांच के लिए पहले राज्य सरकार की अनुमति लेनी होगी। इससे पहले, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, केरल और राजस्थान जैसे विपक्ष शासित राज्य भी सामान्य सहमति वापस ले चुके हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आसिफ एस खान

झारखंड के हेमंत सोरेन सरकार ने गुरुवार को एक अहम आदेश जारी कर केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई को राज्य में जांच के लिए दी गई सामान्य सहमति को वापस ले लिया। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बयान में कहा है कि राज्य सरकार द्वारा इस आदेश के बाद अब सीबीआई को झारखंड में अपनी शक्तियों के इस्तेमाल के लिए आम सहमति नहीं होगी, जो झारखंड सरकार (तत्कालीन बिहार सरकार) द्वारा 19 फरवरी 1996 को जारी एक आदेश के तहत प्रदान की गई थी।

इस आदेश के साथ ही झारखंड ऐसा करने वाला देश का आठवां राज्यल बन गया है। वह केरल, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ जैसे विपक्ष शासित उन राज्यों में शामिल हो गया है, जिन्होंने अपने 'दरवाजे' सीबीआई के लिए बंद कर दिए हैं। त्रिपुरा और मिजोरम ने भी ऐसा ही किया था। इस कदम के बाद सीबीआई को अब झारखंड में भी किसी मामले की जांच के लिए पहले राज्यम सरकार की इजाजत लेनी होगी या सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट का आदेश लेना होगा। खास ये है कि झारखंड ने यह कदम केरल सरकार के फैसले के एक दिन बाद उठाया है।

गौरतलब है कि सबसे पहले 2018 में आंध्र प्रदेश की तत्कालीन चंद्रबाबू नायडू सरकार ने एनडीए से बाहर होने के बाद सहमति वापस लेकर राज्य में सीबीआई के प्रवेश पर रोक लगा दिया था। इसके बाद पश्चिम बंगाल सरकार और केंद्र सरकार के बीच हुए विवाद के बाद सीएम ममता बनर्जी ने भी अपने यहां सीबीआई के प्रवेश पर रोक लगा दिया था। उसके बाद छत्तीसगढ़ सरकार ने 2019 में और राजस्थान सरकार ने इसी साल सीबीआई से जनरल कंसेंट वापस ले लिया है। इसी तरह महाराष्ट्र सरकार ने भी हाल ही में सीबीआई से सहमति वापस ले ली है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia