अब भारतीय डाक विभाग कोरोना टेस्ट किट पहुंचाने का काम करेगा, हर रोज 1 लाख टेस्ट करने का ICMR का लक्ष्य

भारतीय डाक पूरे देश में आईसीएमआर की ओर से निर्धारित 200 अतिरिक्त लैब के लिए टेस्ट किट्स मुहैया कराएगा। इन सभी लैब को कोविड की टेस्टिंग करने की अनुमति दी गई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश भर में कोरोना वायरस का कहर जारी है। कोरोना से जंग जीतने के लिए ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग करने की जरुरत है। इसके लिए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने हर दिन 1 लाख टेस्ट करना का लक्ष्य रखा है। आईसीएमआर के इस काम को अंजाम देने के लिए भारतीय डाक विभाग ने मोर्चा संभाला है। अब भारतीय डाक विभाग कोरोना टेस्ट किट पहुंचाने का काम करेगा। देश में 1,56, 000 डाकघरों का विशाल नेटवर्क है जो जल्द से जल्द यह किट पंहुचाने में आईसीएमआर की मदद करेगा।

भारतीय डाक पूरे देश में आईसीएमआर की ओर से निर्धारित 200 अतिरिक्त लैब के लिए टेस्ट किट्स मुहैया कराएगा। इन सभी लैब को कोविड की टेस्टिंग करने की अनुमति दी गई है। अब पोस्ट ऑफिस ने आईसीएमआर के साथ समझौता किया है।

आधिकारिक बयान में कहा गया कि टेस्टिंग किट्स की डिलीवरी की सूचना लैब को रोजाना व्हाट्सएप पर दी जाएगी। इंडिया पोस्ट कोलकाता, रांची, पटना, जोधपुर, अजमेर, जयपुर, इंफाल और आइजोल सहित अन्य कई जगहों पर डिलीवरी कर चुका है. इन किटों को ड्राई आइस में पैक कर इसकी डिलीवरी की जा रही है।

गौरतलब है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर जारी रिपोर्ट के मुताबिक, देश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 56342 हो गई है। इनमें 37916 केस सक्रिय हैं। 16539 मरीजों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। देश में कोरोना की चपेट में आकर अब तक 1886 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

पिछले 24 घंटे में कोरोना से जुड़े जो आंकड़े सामने आए हैं वह चिंताजनक है। देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3390 नए केस सामने आए हैं। इसी 24 घंटे के भीतर 103 लोगों की मौत हो गई। पिछले कुछ दिनों में कोरोना मरीजों और कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़ रही है। गुरुवार को एम्स के डायरेक्टर ने कहा था कि अगर इसी तरह कोरोना के मामलों की बढ़ने की रफ्तार रही तो जून और जुलाई के महीने में देश में कोरोना चरम पर होगा।

इसे भी पढ़ें: कोरोना अपडेट: देश में 24 घंटे में 3390 नए केस, 103 की मौत, कुल संक्रमित 56 हजार के पार, अब तक 1886 मौतें

लोकप्रिय
next