बिहार में शराब नहीं पीने की अफसरों-कर्मचारियों ने ली शपथ, नीतीश ने प्रचार-प्रसार रथ को किया रवाना

पटना में एक समारोह में नीतीश कुमार ने अधिकारियों और कर्मचारियों को आजीवन शराब नहीं पीने और दूसरों को भी शराब का सेवन नहीं करने के लिए प्रेरित करने की शपथ दिलाई। पटना के अलावा अन्य जिलों में भी सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों ने शराब नहीं पीने की शपथ ली।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार में नीतीश सरकार की शराबबंदी पर चौतरफा उठ रहे सवालों के बीच शुक्रवार को नशा मुक्ति दिवस के मौके पर राज्य के हजारों सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों ने शराब नहीं पीने और दूसरों को भी शराब नहीं पीने देने की शपथ ली। इस मौके पर बिहार में शराबबंदी को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रचार-प्रसार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

पटना में आयोजित एक समारोह में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों और कर्मचारियों को आजीवन शराब नहीं पीने और दूसरों को भी शराब का सेवन नहीं करने के लिए प्रेरित करने की शपथ दिलाई । पटना के अलावा अन्य जिलों में भी सरकार के कर्मचारी और अधिकारी अपने-अपने सरकारी कार्यालयों में उपस्थित रहे और शराब नहीं पीने की शपथ ली। इस मौके पर पुलिसकर्मियों ने भी थानों में आयोजित कार्यक्रम में शराब नहीं पीने की शपथ ली।


इस मौके पर मुख्यमंत्री ने नशामुक्ति की मुहिम में मद्यनिषेध प्रचार-प्रसार अभियान रथ को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। शपथ ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन प्रखंड और पंचायत स्तर पर भी किए गए। पटना के ज्ञान भवन में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी भी उपस्थिति रहे।

बता दें कि बिहार में साल 2016 से शराब की बिक्री और किसी भी तरह के शराब सेवन पर प्रतिबंध है। इससे पहले भी सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों ने शराब नहीं पीने की शपथ ली थी। लेकिन इसके बावजूद राज्य में लगातार जहरीली शराब पीने से लोगों की मौत की खबरें आ रही हैं। इसके अलावा कई बार सरकारी अधिकारी और कर्मचारी भी शराब पीते पाए गए हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia