जॉन अब्राहम ने बताया केरल में क्यों नहीं चली मोदी लहर, ‘राज्य की विविधता मजबूत, यही राज्य की पहचान’

अभिनेता जॉन अब्राहण मूल रूप से केरल के रहने वाले हैं। उन्होंने बताया कि उनका गृह राज्य अभी तक मोदी-फाइड क्यों नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि यही केरल की खूबसूरत है। आप वहां एक मंदिर, मस्जिद और चर्च को 10 मीटर के दायरे में बिना किसी परेशानी के एक साथ देखेंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

बॉलीवुड अभिनेता जॉन अब्राहम ने एक कार्यक्रम के दौरान मोदी सरकार पर बेहद सधे अंदाज में निशाना साधते हुए अपनी बात कही। जब उनसे पूछा गया कि आखिर केरल अभी तक मोदीमय क्यों नहीं हुआ है? तो उन्होंने जवाब में कहा कि राज्य की विविधता मजबूत है और यही राज्य की पहचान है।

जॉन अब्राहण मूल रूप से केरल के ही रहने वाले हैं। उन्होंने बताया कि उनका गृह राज्य अभी तक मोदी-फाइड क्यों नहीं हुआ। उन्होंने कहा, “यही केरल की खूबसूरत है। आप वहां एक मंदिर, मस्जिद और चर्च को 10 मीटर के दायरे में बिना किसी परेशानी के एक साथ देखेंगे। वहां कोई परेशानी नहीं होगी, पूरी दुनिया के बंटे होने के बीच, केरल एक ऐसा उदाहरण है जहां धर्म और समुदाय शांति से रहते मिलेंगे।”

उन्होंने आगे कहा, “मुझे याद है जब फीडल केंस्त्रो की मौत हुई थी, मैं केरल गया था और वही एक ऐसा राज्य था जहां उनकी मौत पर दुख जताने के लिए पोस्टर्स और होर्डिंग लगाए गए। तो केरल इस मामले में काफी साम्यवादी है। मेरे पिता ने मुझे कई मार्क्सवादी किताबें पढ़वाई हैं। तो यहां कई 'मल्लू लोगों' (मलयाली) में साम्यवादी पक्ष है। हम सभी समान जीवन जीने और धन के समान वितरण में विश्वास करते हैं और केरल इसका शानदार उदाहरण है।”

बता दें कि 2019 के आम चुनाव में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली पार्टी बीजेपी केरल में एक भी सीट नहीं जीत पाई थी। कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ (यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट) ने अधिकतर सीटें जीतीं। यूडीफ को 20 में से 19 सीटें मिलीं। बीजेपी केरल में कभी सत्ता में नहीं आई है।

लोकप्रिय