ओम बिरला बने लोकसभा के नए अध्यक्ष, कांग्रेस समेत कई दलों ने प्रस्ताव का किया समर्थन

राजस्थान की कोटा-बूंदी सीट से बीजेपी सांसद ओम बिरला बुधवार को लोकसभा के निर्विरोध स्पीकर चुने गए। कांग्रेस समेत तमाम दलों ने भी प्रस्ताव का समर्थन किया, जिसके बाद ध्वनिमत से बिरला को 17वीं लोकसभा का स्पीकर चुना गया।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान के कोटा-बूंदी लोकसभा सीट से बीजेपी के सांसद ओम बिड़ला बुधवार को 17वीं लोकसभा के अध्यक्ष नियुक्त हो गए। उन्हें एनडीए ने अपना उम्मीदवार बनाया था। ओम बिड़ला सुमित्रा महाजन का स्थान ग्रहण किया, जो पिछली लोकसभा की अध्यक्ष थीं।

ओम बिरला को लोकसभा अध्यक्ष के लिए निर्विरोध चुने गए। सदन की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई, प्रोटेम स्पीकर वीरेंद्र कुमार ने नए स्पीकर के निर्वाचन की प्रक्रिया शुरू की। पीएम मोदी ने स्पीकर के लिए ओम बिरला के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसका अमित शाह और राजनाथ सिंह समेत सभी ने समर्थन किया। कांग्रेस समेत तमाम दलों ने भी प्रस्ताव का समर्थन किया, जिसके बाद ध्वनिमत से बिरला को 17वीं लोकसभा का स्पीकर चुना गया।

लोकसभा के अध्यक्ष नियुक्त होने ओम बिरला को बीजेपी, कांग्रेस, डीएमके और टीएमसी के नेताओं ने आसन के पास जाकर बधाई दी।

वहीं कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि हमें उम्मीद है कि देश के किसानों की हालात के सुधारने में भी आप अपनी पहल करेंगे। चौधरी ने कहा कि लोकतंत्र की गरिमा बनी रहेगी, ऐसे हम उम्मीद जताते हैं। कांग्रेस सांसद ने कि कांग्रेस चर्चा में भरोसा रखती है और हमें हमारा वक्त मिलना चाहिए।

ओम बिड़ला का जन्म 4 दिसंबर 1962 को कोटा में हुआ था। उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत छात्रसंघ चुनाव से की। बिड़ला 2003, 2008 और 2013 यानी तीन बार राजस्थान विधानसभा के सदस्य रह चुके हैं। 2004 से 2008 तक राजस्थान सरकार में संसदीय सचिव रहे। 56 साल के ओम बिरला ने लगातार दूसरी बार लोकसभा का चुनाव जीता है। कोटा से वे पहली बार 2014 में सांसद चुने गए। 2019 लोकसभा चुनाव में 8,00,051 वोट पाने वाले बिड़ला ने जीत दर्ज की।

इतना ही नहीं बिड़ला को संघ की भी पसंद माना जाता है। पीएम मोदी और अमित शाह से भी उनके सीधे संबंध हैं। गुजरात और बिहार के प्रभारी भूपेंद्र यादव और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के भी नजदीकी माने जाते हैं।

लोकप्रिय