भारत में तीन सब वेरिएंट के साथ कहर ढा रहा है ओमिक्रॉन, तेजी से डेल्टा स्ट्रेन की ले रहा जगह

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार ओमिक्रॉन वैरिएंट में तीन सब लिनेज- बीए.1, बीए.2 और बीए.3 शामिल हैं। बीए.1 और बीए.3 में स्पाइक प्रोटीन में 69-70 विलोपन है, जबकि बीए.2 में ऐसा नहीं है। रिपोर्ट के अनुसार इनमें से दो सब वैरिएंट की लगातार कई जगह पुष्टि हुई है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस का अत्यधिक संक्रामक वैरिएंट ओमिक्रॉन अपने तीन सब वेरिएंट के साथ भारत में कहर ढा रहा है। अपने वैरिएंट के साथ यह पहले के प्रमुख डेल्टा स्ट्रेन की जगह ले रहा है, जिससे देश में कोविड मामलों की दैनिक संख्या तेजी से बढ़ रही है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, ओमिक्रॉन (पैरेंट पेंगो लिनेज बी.1.1.529) वेरिएंट में तीन सब लिनेज (बीए.1, बीए.2 और बीए.3) शामिल हैं। जबकि बीए.1 और बीए.3 में स्पाइक प्रोटीन में 69-70 विलोपन है, जोकि बीए.2 में ऐसा नहीं है। रिपोर्ट के अनुसार इनमें से दो सब वैरिएंट की लगातार कई जगह पुष्टि हुई है।


भारत में जैव प्रौद्योगिकी विभाग के भारतीय सार्स-सीओवी-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (आइएनएसएसीओजी) के वैज्ञानिकों ने देश में किए गए जीन परीक्षणों में तीन सब लिनेज में से बीए.1 और बीए.2 दोनों की महत्वपूर्ण उपस्थिति का उल्लेख किया है। बीए.1, विशेष रूप से, डेल्टा के साथ सह-परिसंचरण कर रहा है और यह महाराष्ट्र और कई अन्य राज्यों में भी बदल रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि देश में अब तक बीए.3 का पता नहीं चला है।

ओपन एक्सेस डेटा शेयरिंग प्लेटफॉर्म जीआईएसएआइडी के अनुसार, पहली बार नवंबर 2021 के अंत में दक्षिण अफ्रीका और बोत्सवाना में पाए गए ओमिक्रॉन को 100 से अधिक देशों और सभी सात महाद्वीपों में पाया गया है। ओमिक्रॉन, अमीनो एसिड परिवर्तनों के अनूठे मिश्रण (क्लैड जीआरए, लिनेज बी.1.1.529 और लिनेज बीए.1 और बीए.2) की बढ़ोतरी में शामिल है, जिन्हें पहले रिसेप्टर बाइंडिंग और एंटीबॉडी एस्केप को प्रभावित करने के लिए पहचाना गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia