हरिद्वार में हेट स्पीच पर प्रियंका ने की सख्त कार्रवाई की मांग, जयराम रमेश का सवाल- नृशंस अभद्र भाषा पर चुप्पी क्यों?

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की, जिन्होंने एक कार्यक्रम में हेट स्पीच दिया और 'एक विशेष धर्म को मानने वालों के खिलाफ हिंसा फैलाने' का आह्वान किया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की, जिन्होंने एक कार्यक्रम में हेट स्पीच दिया और 'एक विशेष धर्म को मानने वालों के खिलाफ हिंसा फैलाने' का आह्वान किया। प्रियंका ने कहा, "इस तरह की नफरत और हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। यह निंदनीय है कि वे हमारे आदरणीय पूर्व पीएम की हत्या करने और विभिन्न समुदायों के लोगों के खिलाफ हिंसा फैलाने का खुला आह्वान करके निकल जाएं।"

उन्होंने कहा, "इस तरह के कृत्य हमारे संविधान और हमारी भूमि के कानून का उल्लंघन करते हैं।"

यह घटना 17 से 20 दिसंबर तक आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान हरिद्वार में हुई थी। सोशल मीडिया पर प्रसारित वीडियो क्लिप में कहा गया है कि 'हिंदुओं को म्यांमार के लोगों की तरह खुद हथियार उठाना चाहिए, हर हिंदू को हथियार उठाना चाहिए और एक सफाई अभियान करना चाहिए।"


कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा, "जहां तक प्रधानमंत्री और उनके ढोल पीटने वालों का सवाल है, सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास एक बकवास है। यह केवल एक खोखला नारा है! हरिद्वार में किए गए नृशंस अभद्र भाषा पर गरजती चुप्पी क्यों? गृह मंत्री और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री क्यों चुप हैं।"

तीन दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन एक विवादास्पद धार्मिक नेता यती नरसिम्हनंद द्वारा किया गया था, जिन पर अतीत में हिंसा भड़काने का आरोप है। उत्तराखंड पुलिस ने इस मामले में शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और हाल ही में हिंदू धर्म अपनाने वाले जितेंद्र नारायण त्यागी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia