दिल्ली में 27 नवंबर से केवल CNG और ई-वाहनों को मिलेगा प्रवेश, केजरीवाल सरकार ने निकाला प्रदूषण नियंत्रण का उपाय

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद कहा कि दिल्ली में प्रदूषण का स्तर कम हो रहा है, जिससे दिवाली से पहले के दिनों की तरह वायु गुणवत्ता में सुधार हुआ है। सरकार ने इसे बनाए रखने के लिए कई उपाय किए हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजधानी दिल्ली की वायु गुणवत्ता को नियंत्रण में रखने के लिए 27 नवंबर से 3 दिसंबर तक केवल सीएनजी से चलने वाले और इलेक्ट्रिक वाहनों को ही शहर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। दिल्ली सरकार ने बताया कि 27 नवंबर से तीन दिसंबर तक सभी पेट्रोल और डीजल वाहनों पर प्रतिबंध रहेगा। दिल्ली के बाहर से आवश्यक सेवाओं में शामिल लोगों और वाहनों को छोड़कर ट्रकों और अन्य वाहनों का प्रवेश रोक दिया गया है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद प्रेस वार्ता में कहा, "दिल्ली में प्रदूषण का स्तर कम हो रहा है, जिससे दिवाली से पहले के दिनों की तरह वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) में सुधार हुआ है। दिल्ली सरकार ने इसे बनाए रखने के लिए कई उपाय किए हैं। दिल्ली के बाहर से आवश्यक सेवाओं में शामिल लोगों को छोड़कर ट्रकों और अन्य वाहनों का प्रवेश रोक दिया गया है।"

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री ने कहा, "27 नवंबर से, केवल सीएनजी से चलने वाले और इलेक्ट्रिक वाहनों को राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश की अनुमति होगी। अन्य सभी वाहनों पर 3 दिसंबर तक प्रतिबंध रहेगा।" दिल्ली की हवा को स्वच्छ रखने के लिए आवश्यक उपायों पर निर्णय लेने के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है।


इसके साथ ही गोपाल राय ने कहा कि स्कूल, कॉलेज, पुस्तकालय और अन्य शैक्षणिक संस्थान भी 29 नवंबर से फिर से खोल दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि सरकारी कार्यालय भी सोमवार से फिर से खुलेंगे और सभी को परिवहन के सार्वजनिक साधन का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। गोपाल राय ने कहा कि हमने तिमारपुर और गुलाबी बाग जैसी प्रमुख कॉलोनियों के लिए विशेष सीएनजी बसें तैनात करने का भी फैसला किया है, जहां से दिल्ली सरकार के कर्मचारी कार्यालय आते हैं। हम कर्मचारियों के लिए दिल्ली सचिवालय से आईटीओ और इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन के लिए शटल बस सेवा भी शुरू करेंगे।

मंत्री ने कहा, "हाल ही में दिल्ली सरकार ने निर्माण और विध्वंस गतिविधियों से प्रतिबंध हटा दिया था। सभी निर्माण एजेंसियों को भी 14 बिंदु-दिशानिर्देशों का पालन करने की सलाह दी गई है। हमने धूल प्रदूषण को रोकने के लिए ऐसी साइटों पर जांच रखने के लिए 585 टीमों को तैनात किया है। मानदंडों का उल्लंघन करने वालों को दंडित किया जाएगा और बिना किसी नोटिस के सख्त कार्रवाई की जाएगी।"

दिल्ली सरकार ने सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी की वायु गुणवत्ता में मामूली सुधार के बाद निर्माण गतिविधियों पर से प्रतिबंध हटा लिया है। इससे पहले 21 नवंबर को, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग के अगले आदेश तक, राष्ट्रीय राजधानी के सभी स्कूलों को शहर में वायु प्रदूषण के बढ़ते स्तर के कारण बंद कर दिया गया था।


दिवाली के बाद से राष्ट्रीय राजधानी का एक्यूआई 'बहुत खराब' या 'गंभीर' श्रेणी के आसपास पहुंच गया था। हवा की दिशा में बदलाव, पराली जलाने और पटाखे फोड़ने को हवा की गुणवत्ता खराब होने का कारण बताया गया था। सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) द्वारा बुधवार के एक्यूआई को 280 दर्ज किए जाने के साथ रविवार को शहर में तेज हवाएं चलने के बाद दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में सुधार हुआ है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia