यूपी सरकार में योगी के खिलाफ खुली बगावत, मंत्री दिनेश खटीक ने अमित शाह को भेजा इस्तीफा

उत्तर प्रदेश में बीजेपी की योगी सरकार के मंत्रिमंडल में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। खबरें थीं कि तीन मंत्री अपनी ही सरकार के कामकाज को लेकर नाराज चल रहे हैं, जिनमें से एक दिनेश खटीक का अमित शाह को भेजा इस्तीफा भी सामने आ गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार में सीएम योगी के खिलाफ खुली बगावत हो गई है। राज्य के जलशक्ति विभाग में अंदरखाने मची खींचतान के बीच जलशक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को अपना इस्तीफा भेज दिया है जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। हालांकि, बीजेपी सरकार ने इस पूरे मामले पर चुप्पी साध ली है। बताया जा रहा है कि खटीक अपने कैबिनेट मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह और विभागीय अधिकारियों द्वारा उपेक्षा किए जाने से नाराज हैं। चर्चा है खटीक मंगलवार को मंत्रियों की बैठक में शामिल नहीं हुए थे।

मंत्री दिनेश खटीक ने अपने पत्र में लिखा, ''पीएम मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और अमित शाह के अथक परिश्रम और कुशल नेतृत्व में दलितों और पिछड़ों के साथ लेकर चलने से बीजेपी सरकार का गठन हुआ है। ईमानदार छवि वाले मुख्यमंत्री के साथ मुझे जलशक्ति मंत्री बनाया गया। जिसमें पूरा दलित समाज खुश है। परन्तु जलशक्ति विभाग में दलित समाज का राज्यमंत्री होने के कारण मेरे किसी भी आदेश पर कोई भी कार्यवाही नहीं होती है और न ही किसी बैठक में बुलाया जाता है। न ही सूचना दी जाती है कि विभाग में कौन-कौन सी योजनाएं चल रही हैं। उन पर क्या कार्यवाही हो रही है? जिसके कारण विभाग के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं हो पाती।"

यूपी सरकार में योगी के खिलाफ खुली बगावत, मंत्री दिनेश खटीक ने अमित शाह को भेजा इस्तीफा

उन्होंने आगे कहा, "संबंधित विभाग के अधिकारी सिर्फ गाड़ी उपलब्ध करा देना मंत्री का अधिकार समझते हैं। इस विभाग में स्थानांतरण सत्र में बहुत भ्रष्टाचार हुआ है। कई दिनों तक सूचना नहीं मिली। प्रमुख सचिव सिंचाई ने मेरी पूरी बात सुने बिना ही फोन काट दिया। वह मेरी बात को अनसुना कर रहे थे। मेरे दलित होने के कारण विभाग में भेदभाव हो रहा है। मुझे कोई अधिकार नहीं मिला। इस कारण पत्र का जवाब भी नहीं मिलता है। नमामि गंगे में बहुत भ्रष्टाचार फैला है। जो कि जमीन पर जाने पर पता चलता है। जब भी इसकी शिकायत की जाती है तो उस पर कोई कार्यवाही नहीं होती। यूपी के अंदर अधिकारी दलितों का अपमान कर रहे हैं। राज्यमंत्री होते हुए विभाग में मेरा कोई अस्तित्व नहीं है। ऐसी स्थिति में मेरा काम कर पाना दलित समाज के लिए बेकार है। इससे आहत होकर अपना त्यागपत्र दे रहा हूं।"

यूपी सरकार में योगी के खिलाफ खुली बगावत, मंत्री दिनेश खटीक ने अमित शाह को भेजा इस्तीफा

खटीक के अलावा योगी आदित्यनाथ सरकार के और भी कई मंत्रीयों की नाराजगी की खबर है। खटीक को मिलाकर योगी सरकार में 3 मंत्री अपने-अपने विभागों में तबादलों को लेकर विरोध का सामना कर रहे हैं। तइनमें जलशक्ति विभाग के राज्यमंत्री दिनेश खटीक के अलावा पीडब्ल्यूडी विभाग के प्रमुख जितिन प्रसाद,और स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक भी नाराज बताए जा रहे हैं।


मंत्री जितिन प्रसाद को लेकर भी चर्चा है कि वह भी नाराज चल रहे हैं। बताया जा रहा है कि जितिन प्रसाद पीडब्ल्यूडी विभाग में हुई कार्रवाई से नाराज हैं। वो मंगलवार को हुई बैठक में शामिल हुए थे। बैठक के बाद जितिन प्रसाद निकल लिए। वह मीडिया से मुखातिब नहीं हुए। सियासी गलियारे में चर्चा है कि जितिन प्रसाद पीडब्ल्यूडी विभाग में हुई कार्रवाई से नाराज हैं। इसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात भी की थी। कहा जा रहा है कि नाराज जितिन आज बुधवार को दिल्ली जा सकते हैं।

इसके अलावा उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक भी खासे नाराज बताए जा रहे हैं। योगी आदित्यनाथ सरकार को उस समय काफी शर्मिदगी का सामना करना पड़ा था, जब उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने अपने स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग में तबादलों पर खुद सवाल उठाए थे। मंत्री ब्रजेश पाठक ने एक बड़ा कदम उठाते हुए अपने ही विभाग के आला अधिकारियों को पत्र लिखकर जवाब मांगा था। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अमित मोहन प्रसाद और ब्रजेश पाठक के बीच तल्खी भी दिखी थी। इसके बाद सीएम योगी ने जांच के आदेश दिए थे। जिसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने अब अपने सभी मंत्रियों को फाइलों पर हस्ताक्षर करने से पहले उन्हें ठीक से पढ़ने का निर्देश दिया है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;