पेगासस जासूसी कांड: विपक्ष का केंद्र सरकार पर जोरदार हमला, JPC जांच की मांग

पेगासस जसूसी कांड को लेकर विपक्षी दल मोदी सरकार पर हमलावर हैं। इस मुद्दे पर संसद में हंगामा हो रहा है। विपक्षी दल इस मामले की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं। हंगामे के चलते दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित भी करना पड़ा।

फोटो: राज्यसभा
फोटो: राज्यसभा
user

नवजीवन डेस्क


पेगासस जसूसी कांड को लेकर विपक्षी दल मोदी सरकार पर हमलावर हैं। इस मुद्दे पर संसद में हंगामा हो रहा है। विपक्षी दल इस मामले की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं। हंगामे के चलते दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित भी करना पड़ा। लोकसभा 2 बजे तक और राज्यसभा 11 बजे तक स्थगित हो गई है। इसके बाद 12 बजे राज्यसभा की कार्यवाही एक बार फिर शुरू की गई, लेकिन हंगामे के चलते स्थगति कर दी गई।

कांग्रेस, शिवसेना समेत कई दल इस मामले की जांच के लिए ज्वाइंट पार्लियामेंट्री कमेटी (JPC) गठित करने की मांग की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शक्तिसिंह गोहिल ने मांग की है कि पेगासस स्पाईवेयर विवाद की जांच JPC गठित करके कराई जाए। इस विवाद में जो तथ्य सामने आए हैं, उनसे बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं। क्या सरकार ने इजरायल से स्पाईवेयर खरीदा था। अगर नहीं तो गलत तरीके से भारतीय नागरिकों के फोन को हैक किया गया ? सरकार इस मामले में कटघरे में है।


वहीं शिवसेना के सांसदों ने भी पेगासस मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति से कराने की मांग की है। शिवसेना सांसदों ने स्पीकर से मिलकर यह मांग की है। उनका कहना है कि ये संविधान द्वारा प्रदत्त गोपनीयता और स्वतंत्रता के अधिकार पर हमला है। ये मामला बेहद गंभीर है। इसलिए इसकी जांच होनी ही चाहिए।

आम आदमी पार्टी ने भी इस मामले की जांच करने की मांग की है। आप सांसद संजय सिंह ने कहा कि पेगासस स्पाइवेयर विवाद की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एक हाई लेवल एसआईटी गठित करके करनी चाहिए। देश के महत्वपूर्ण नेताओं पत्रकारों और दूसरे कई लोगों के फोन हैक की बात सामने आ रही है। आप सांसद ने कहा कि यह कोई सामान्य मामला नहीं है। सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एसआईटी की जांच से ही इस मामले में दूध का दूध और पानी का पानी हो पाएगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia