कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने लोकसभा का बहिष्कार किया, कृषि विधेयक वापस लेने की रखी मांग

कृषि विधेयकों को लेकर राज्यसभा से निलंबित 8 सांसदों के समर्थन में कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने लोकसभा के भी बहिष्कार का ऐलान कर दिया है। आज इससे पहले विपक्ष राज्यसभा के बहिष्कार का ऐलान कर चुका है। अब विपक्षी पार्टियां बचे हुए सत्र में हिस्सा नहीं लेंगी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

सरकार से कृषि विधेयकों को वापस लिए जाने की अपनी मांग रखते हुए डीएमके, कांग्रेस, एनसीपी और तृणमूल कांग्रेस जैसे विपक्षी दलों ने मंगलवार को लोकसभा की कार्यवाही का बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया। इन विपक्षी दलों के सांसदों ने आज सदन की कार्यवाही के दौरान राज्यसभा में बिल को पास कराने के तरीके पर हुए विवाद को उठाया और बहिष्कार का ऐलान करते हुए सदन से बाहर चले गए।

इससे पहले लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने सरकार से उन दो कृषि विधेयकों को वापस लेने की अपील की, जिसे विपक्ष द्वारा आपत्ति जताए जाने के बावजूद रविवार को राज्यसभा में पारित कर दिया गया। विपक्ष द्वारा उठाए गए इस मुद्दे पर एक घंटे स्थगन के बाद शाम 4.14 बजे सदन के दोबारा शुरू होने के बाद अधीर चौधरी ने अपना यह अनुरोध रखा।

चौधरी ने कहा, "साल 2014 में, जब से आप सत्ता में हैं, तब से भारत के किसानों, श्रमिकों और बेरोजगारों को बुरे दौर से गुजरना पड़ा है। आप ने विधेयकों को दूसरे सदन से पारित कराकर हमारा अधिकार छीन लिया है। सरकार के आदेश के बिना कुछ भी नहीं हो सकता। हम दूसरे सदन के अपने सदस्यों के समर्थन में खड़े हैं। हम सभी विपक्षी सदस्य सदन की कार्यवाही का बहिष्कार करते हैं। आपने हमें ऐसा करने को मजबूर किया है।"

हालांकि इसके साथ ही लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि अगर सरकार दो कृषि विधेयकों को वापस लेने पर हामी भर दे, तो विपक्ष को सदन की कार्यवाही में शामिल होने में कोई आपत्ति नहीं है। साथ ही उन्होंने राज्यसभा से 8 विपक्षी सांसदों के निलंबन का मुद्दा भी उठाया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia