दिल्ली में चुनाव आयोग से सटे ओवैसी के सरकारी आवास पर तोड़फोड़, हिंदू सेना के 5 लोग हिरासत में लिए गए

हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता ने कहा कि उन्हें घटना की जानकारी नहीं थी। लेकिन यह मानते हुए कि संगठन के कुछ लोग वहां प्रदर्शन करने गए थे, उन्होंने कहा कि ओवैसी लगातार हिंदू विरोधी बयान दे रहे हैं, हो सकता है कि कार्यकर्ता इससे नाराज हों।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

एआईएमआईएम प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी के दिल्ली स्थित सरकारी आवास में मंगलवार शाम को कुछ लोगों द्वारा तोड़फोड़ की घटना को अंजाम दिया गया है। यह घटना शाम करीब 4 बजे की है, जब हिंदू सेना के लोग अशोक रोड पर चुनाव आयोग से सटे ओवैसी के घर के बाहर धरना दे रहे थे। । इस मामले में पुलिस ने हिंदू सेना के पांच लोगों को हिरासत में लिया है। नई दिल्ली के डीसीपी दीपक यादव ने बताया कि पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में लिया है और उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा रही है।

असदुद्दीन ओवैसी के आवास के बाहर प्रदर्शन कर रहे हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने अचानक से मुख्यद्वार और सांसद की नेम प्लेट के ऊपर जलते लैम्प को चकनाचूर कर दिया। लैम्प के सफेद टुकड़े वहां सड़क पर बिखरे देखे जा सकते हैं। प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान गेट पर भी हमला किया। वहीं ओवैसी का आरोप है कि इस दौरान उनके साथ 40 साल से काम करने वाले राजू नाम के शख्स के साथ मारपीट भी की गई।


असदुद्दीन ओवैसी ने इस घटना पर तीखी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि आज कुछ उग्रवादी गुंडों ने मेरे दिल्ली के मकान पर तोड़-फोड़ की।इनकी बुज़दिली के चर्चे तो वैसे ही आम हैं।हमेशा की तरह, इनकी वीरता सिर्फ़ झुंड में ही दिखाई देती है। वक्त भी ऐसा चुना जब मैं घर पर नहीं था। गुंडों के हाथों में कुल्हाड़ियां और लकड़ियां थीं, घर पर पत्थरबाजी की गई। मेरा नेम प्लेट तोड़ा गया और 40 साल से साथ काम करने वाले राजू के साथ मारपीट भी की गई। वहां सांप्रदायिक नारे लगाए गए और मुझे कत्ल करने की धमकी भी दी गई। राजू के घर में रहने वाले छोटे से बच्चे घबराए हुए हैं। झुंड में कम-से-कम 13 लोग थे। 6 दिल्ली पुलिस की हिरासत में हैं।

ओवैसी ने आरोप लगाया कि मेरे घर को ये तीसरी बार निशाना बनाया गया है। पिछली बार जब ऐसा हुआ था तब राजनाथ सिंह न सिर्फ़ गृह मंत्री थे बल्कि मेरे पड़ोसी भी थे।मेरे घर के बग़ल में ही निर्वाचन सदन है, और ठीक सामने पार्लियामेंट स्ट्रीट थाना भी है। प्रधानमंत्री का आवास भी मेरे घर से महज़ 8 मिनट की दूरी पर है।मैंने बार-बार पुलिस को बताया था कि मेरे मकान को निशाना बनाया जा रहा है। अगर एक सांसद का घर महफ़ूज़ नहीं तो अमित शाह बाक़ी शहरियों को क्या सन्देश देना चाहते हैं?


वहीं इस मामले पर हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता ने कहा कि उन्हें इस घटना की जानकारी नहीं थी और मीडिया रिपोर्टों और अन्य स्रोतों के माध्यम से इसके बारे में पता चला। उन्होंने पुष्टि की कि उनके संगठन के कुछ कार्यकर्ता वहां विरोध प्रदर्शन करने गए थे।
गुप्ता ने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी लगातार हिंदू विरोधी बयान दे रहे हैं और हो सकता है कि कार्यकर्ता इससे नाराज हों।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia