तेल के दामों को लेकर चिदंबरम का बयान, कहा, मोदी सरकार और बीजेपी अध्यक्ष जनता को कर रहे हैं गुमराह

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम

पी चिदंबरम ने कहा कि मोदी सरकार यह दावा कर रही है कि नोटबंदी से काला धन खत्म हो गया है, लेकिन चुनाव आयोग कह रहा है कि देश में मौजूद काला धन से देश के लोकतंत्र को खतरा है। उन्होंने कहा कि ऐसे में सवाल यह है कि काला धन आया कहां से?

पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने केंद्र की बीजेपी सरकार को तेल की बढ़ती कीमतों, काला धन और जीएसटी के मुद्दे पर घेरा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “सरकार यह दावा कर रही है कि नोटबंदी से काला धन खत्म हो गया है। लेकिन चुनाव आयोग कह रहा है कि देश में मौजूद काला धन से देश के लोकतंत्र को खतरा है। ऐसे में सवाल यह है कि काला धन आया कहां से?”

चिदंबर ने कहा कि बढ़ती तेल की कीमतों पर बीजेपी कुछ और सरकार कुछ और कह रही है। उन्होंने आगे ट्वीट कर कहा, “सरकार कह रही है वह तेल के दाम में कोई कटौती नहीं करेगी। लेकिन बीजेपी अध्यक्ष कह रहे हैं कि केंद्र सरकार जल्द ही तेल की कीमतों को काबू करेगी। ऐस में बीजेपी को एक ऐसे कच्चे तेल के स्रोत को ढूंढा चाहिए जो उसे इसकी सप्लाई दे सके।”

इससे पहले शनिवार को चिदंबरम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने रुपये की गिरावट थामने और चालू खाता घाटा (सीएडी) बढ़ने से रोकने के लिए जो पांच कदम उठाए हैं, बेमन से और बहुत देरी से उठाए हैं। पूर्व वित्तमंत्री ने ट्विटर पर कहा, "कल घोषित किए गए सरकार के पांच कदम बेमन से और बहुत देरी से उठाए गए हैं। क्योंकि सरकार इसे नकार रही थी।"

उन्होंने कहा, "इसका सबूत कई महीनों से सीएडी की खस्ता हालत होना है, और अभी तक सरकार ने कुछ नहीं किया है। सीएडी का घाटा बढ़ रहा है, एफपीआई देश से बाहर जा रहा है, रुपया कमजोर हो रहा है और विदेशी मुद्रा भंडार तेजी से घट रहा है। ये जगाने वाले संकेत थे, जिनकी अनदेखी की गई।"

रुपये को और अधिक गिरने तथा सीएडी को बढ़ने से रोकने के लिए सरकार ने शुक्रवार को पांच कदम उठाने की घोषणा की, जिसमें गैर जरूरी आयात रोकने और निर्यात बढ़ाने की घोषणा की गई।

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से विस्तृत चर्चा के बाद कहा कि सरकार राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है तथा भारतीय अर्थव्यस्था पर बाहरी कारकों के प्रभाव की निगरानी

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

सबसे लोकप्रिय

अखबार सब्सक्राइब करें