पाकिस्तान ने नए मानचित्र में जम्मू-कश्मीर को बताया अपना, भारत ने बौखलाहट करार दिया

अनुच्छेद 370 के निरस्तीकरण की पहली वर्षगांठ से एक दिन पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक नया राजनीतिक मानचित्र जारी किया, जिसमें भारत के जम्मू-कश्मीर को पाकिस्तान के हिस्से के रूप में दर्शाया गया है। भारत ने इसे पाकिस्तान की बौखलाहट बताया है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

आईएएनएस

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए के निरस्तीकरण की पहली वर्षगांठ की पूर्व संध्या पर मंगलवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के नए राजनीतिक मानचित्र का अनावरण किया, जिसमें भारत के केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर को पाकिस्तान के हिस्से के रूप में दर्शाया गया है। इमरान खान ने इस नए राजनीतिक मानचित्र को संयुक्त राष्ट्र में भी पेश करने का फैसला किया है।

इमरान खान की कैबिनेट ने आज जिस नए नक्शे को मंजूरी दी, उसमें पूरा जम्मू और कश्मीर पाकिस्तान में शामिल दिखाया गया है। पाकिस्तान का यह नया नक्शा जम्मू और कश्मीर को भारत द्वारा अवैध रूप से कब्जाए गए विवादित क्षेत्र के रूप में दिखाता है। अब पाकिस्तान यह नक्शा संयुक्त राष्ट्र के सामने पेश करने की तैयारी में है।

इमरान खान ने संघीय कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद कहा कि यह पाकिस्तान के इतिहास में सबसे ऐतिहासिक दिन है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने एक राजनीतिक मानचित्र पेश किया है, जो पूरे कश्मीर क्षेत्र को दर्शाता है, जिसमें भारत की ओर से अवैध रूप से अधिकृत जम्मू और कश्मीर शामिल है। यह मानचित्र पूरे देश के साथ-साथ कश्मीर के लोगों की आकांक्षाओं के अनुसार है।

उन्होंने यह भी कहा कि नया नक्शा देश के सभी राजनीतिक दलों द्वारा समर्थित है। इमरान ने कहा कि यह नक्शा पिछले साल पांच अगस्त को भारत सरकार के अवैध कृत्य का भी विरोध करता है। खान ने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर के लोगों के लिए प्रयास करना जारी रखेगा। उन्होंने कहा कि विवाद सैन्य के बजाए केवल राजनीतिक माध्यम से हल किया जा सकता है।

वहीं भारत सरकार ने पाकिस्तान की इस हरकत पर कड़ा बयान जारी करते हुए इसे बौखलाहट से भरा हुआ बताते हुए राजनीतिक गैरबराबरी की एक कवायद करार दिया है। भारत ने इसे पाकिस्तान के गलत इरादों का सबूत बताते हुए कहा कि यह सीमा पार आतंकवाद द्वारा समर्थित कदम के साथ पाकिस्तान के जुनून की वास्तविकता की पुष्टि करता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय