महामारी अभी खत्म नहीं हुई, कोविड, मंकीपॉक्स दुनिया के लिए विकट चुनौती, WHO ने जारी की चेतावनी

वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी ने पुष्टि की है कि दुनिया भर में मंकीपॉक्स के 92 पुष्ट मामले हैं और 12 देशों में 28 अन्य संदिग्ध संक्रमण हैं। इजराइल, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम सूची में नए जुड़े हैं।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि दुनिया अब तक लगभग 15 देशों में 100 से अधिक लोगों को संक्रमित करने वाले मंकीपॉक्स के प्रकोप की एक महत्वपूर्ण और विकट चुनौती का सामना कर रही है। रविवार को जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र की विश्व स्वास्थ्य सभा को संबोधित करते हुए, डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस एडनॉम गेब्रेयिसस ने कहा कि दुनिया में महामारी अभी खत्म नहीं हुई है। इसने लगभग 15 मिलियन अतिरिक्त लोगों की जान ली है।

गेब्रेयसस ने कहा, "कोविड महामारी निश्चित रूप से खत्म नहीं हुई है। हम जलवायु परिवर्तन, असमानता और भू-राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता से प्रेरित बीमारी, सूखा, अकाल और युद्ध का सामना कर रहे हैं।"

महामारी अभी खत्म नहीं हुई, कोविड, मंकीपॉक्स दुनिया के लिए विकट चुनौती, WHO ने जारी की चेतावनी

वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी ने पुष्टि की है कि दुनिया भर में मंकीपॉक्स के 92 पुष्ट मामले हैं और 12 देशों में 28 अन्य संदिग्ध संक्रमण हैं। इजराइल, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम सूची में नए जुड़े हैं।

इसके अलावा, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में घातक इबोला का प्रकोप देखा गया है, जबकि लगभग 21 देशों ने बच्चों में रहस्यमय तीव्र हेपेटाइटिस की स्थिति के कम से कम 450 मामलों की सूचना दी है।

लगभग 12 बच्चों की जान चली गई है, और कई को लीवर प्रतिरोपण की आवश्यकता है।


डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा, "सभी क्षेत्रों में लगभग 70 देशों में रिपोर्ट किए गए मामले बढ़ रहे हैं और यह एक ऐसी दुनिया में है जिसमें परीक्षण दरों में गिरावट आई है। परीक्षण और अनुक्रमण में गिरावट का मतलब है कि हम वायरस के विकास के लिए खुद को अंधा कर रहे हैं।"

उन्होंने कहा कि केवल 57 देशों ने अपनी 70 प्रतिशत आबादी का टीकाकरण किया है, जिनमें से लगभग सभी उच्च आय वाले देश हैं। उन्होंने महामारी से लड़ने के लिए टीकाकरण बढ़ाने, वायरस की जीनोमिक निगरानी करने का आह्वान किया।

उन्होंने 'शांति' का आह्वान करते हुए कहा कि यह 'स्वास्थ्य के लिए एक शर्त' है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia