ऊंटों की पीठ पर बैठकर बीएसएफ के जवानों ने किया योग, सोशल मीडिया पर भड़के लोग

राजस्थान में बीएसएफ की टीम को ऊंटों की पीठ पर योग आसन (मुद्रा) करने के लिए सोशल मीडिया पर आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान में बीएसएफ की टीम को ऊंटों की पीठ पर योग आसन (मुद्रा) करने के लिए सोशल मीडिया पर आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। इन योगाभ्यासों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं जिसमें ऊंट फर्श पर पीठ के बल लेटे हैं जबकि बीएसएफ के जवान उनकी पीठ के बल योगासन करते नजर आ रहे हैं।

हरिदेव जोशी जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, जयपुर के संस्थापक वीसी और वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने ट्विटर पर घटना की एक तस्वीर साझा की और लिखा, "निर्दय योग! ऊंट के पांव बांधकर, कालीन के माफिक जमान पर बिछाकर उसके पेट पर योगासन करना योग नहीं है, क्रूरता भरा अत्याचार है।"


इसको लेकर सोशल मीडिया पर जमकर निंदा की गई जिन्होंने संबंधित सरकारी अधिकारियों से सख्त कार्रवाई करने और इस प्रथा को रोकने के लिए कहा। एक सोशल मीडिया यूजर ने पीएमओ को टैग करते हुए कहा, "क्या पीएमओ इस तरह के नीरस शो के आयोजकों के खिलाफ निर्दोष जानवरों का दुरुपयोग करने के खिलाफ कार्रवाई करेंगे?"

उन्होंने कहा, "आयोजकों को तुरंत गिरफ्तार करने की जरूरत है।" समाजसेवी अजय वर्मा ने कहा, "दिखाने के लिए बेजुबान जानवर को बांधकर, ऊंट की टांग बांधकर और उस पर बैठ कर बीएसएफ द्वारा योग का फोटो सेशन करना एक तरह का क्रूर व्यवहार माना जाएगा जो कि अत्यधिक निंदनीय है।"


एबीएन शर्मा, आईजी (सेवानिवृत्त), बीएसएफ सेवानिवृत्त अधिकारी ने कहा, "ऊंटों और संचालकों को लेटने और रेंगने जैसे विभिन्न कार्य करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। पुरुष योग या पीटी करते हैं, चलते या स्थिर रहते हुए हथियार का उपयोग करते हैं। इस तरह के प्रदर्शन का आनंद लिया जा सकता है कौशल और स्टंट नहीं जैसा कि हम मोटरसाइकिल डेयरडेविल टीमों के लिए करते हैं।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 22 Jun 2021, 2:21 PM