नूंह हिंसा से सहमे लोग, 400 से अधिक प्रवासी परिवारों का पलायन, अपने मूल स्थानों के लिए हुए रवाना

लगभग 400 परिवार सेक्टर 70 में झुग्गियां छोड़ने के लिए मजबूर हो गए हैं। उनमें से ज्यादातर पश्चिम बंगाल, बिहार और झारखंड के प्रवासी श्रमिक हैं।

फोटो: ians
फोटो: ians
user

नवजीवन डेस्क

हरियाणा के नूंह में सांप्रदायिक हिंसा के बाद 400 से अधिक घबराए हुए प्रवासी परिवार अपने मूल स्थानों के लिए रवाना हो गए हैं, जो अब गुरुग्राम तक फैल गया है और वे सदमे में और डरे हुए हैं।

जहां 20 परिवार पालदा गांव से भाग गए हैं, वहीं लगभग 400 परिवार सेक्टर 70 में झुग्गियां छोड़ने के लिए मजबूर हो गए हैं। उनमें से ज्यादातर पश्चिम बंगाल, बिहार और झारखंड के प्रवासी श्रमिक हैं।

दावा किया गया कि कुछ लोगों ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी और चेतावनी दी कि अगर वे नहीं हटे तो उनकी झुग्गियों में आग लगा दी जाएगी।

हिंसा के बाद गुरुग्राम में नाई की दुकानें, कबाड़ी की दुकानें और होटल (मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा संचालित) पर ताला लगा दिया गया।

गुरुग्राम में मानेसर और आसपास के इलाकों में बड़ी संख्या में प्रवासी परिवार रहते थे।

अल्पसंख्यक समुदाय से संबंधित एक व्यक्ति ने कहा, "लोगों का एक समूह मोटरसाइकिलों पर आया और हमें धमकी दी कि अगर हम वहां से नहीं हटेंगे, तो वे हमारी झुग्गी और हमारे वाहनों में आग लगा देंगे। गुरुग्राम में हिंसक घटना के बाद पुलिस की तैनाती बढ़ा दी गई है, लेकिन हम डरे हुए हैं। स्थिति में सुधार होने पर हम वापस लौट आएंगे।" 

हालाकि, गुरुग्राम जिला प्रशासन ने आश्‍वासन दिया है कि प्रवासी परिवारों की सुरक्षा की जाएगी और पूरे गुरुग्राम में, खासकर संवेदनशील इलाकों में पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;