ड्रग्स केस में चौंकाने वाले खुलासे, 'क्रूज़ पर रेड की कार्रवाई फर्जी', आर्यन को गिरफ्तार करने वाला शख्स BJP का नेता!

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के एक वरिष्ठ नेता ने बुधवार को चौंकाने वाले दावे में आरोप लगाया कि 2 अक्टूबर में एक लक्जरी जहाज कार्डेलिया क्रूज पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के छापे में भारतीय जनता पार्टी के 'उपाध्यक्ष' सहित दो निजी व्यक्ति शामिल थे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के एक वरिष्ठ नेता ने बुधवार को चौंकाने वाले दावे में आरोप लगाया कि 2 अक्टूबर में एक लक्जरी जहाज कार्डेलिया क्रूज पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के छापे में भारतीय जनता पार्टी के 'उपाध्यक्ष' सहित दो निजी व्यक्ति शामिल थे। एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मलिक ने 'धोखाधड़ी' एनसीबी संचालन की निंदा की, जिसमें बीजेपी नेता मनीष भानुशाली और 'निजी जासूस' किरण पी गोसावी को आरोपियों को खींचते हुए देखा गया था, जिसमें सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान और अरबाज मर्चेंट शामिल हैं।

एनडीटीवी के रिपोर्टर सोहित मिश्रा ने भी ट्वीट कर कहा कि लाल शर्ट में जिन्हें आप देख रहे हैं,वही मनीष भानुशाली हैं.. यह बीजेपी उपाध्यक्ष हैं और अरबाज को एनसीबी दफ्तर लेकर यही पहुंचे हैं..। सोहित ने कुछ फोटो भी शेयर किए हैं जिसमें वो पीएम और दूसरे नेताओं के साथ देखे जा सकते हैं। सोहित ने लिखा, ऊपर मोदीजी के साथ इनकी तस्वीर आप देख सकते हैं।

जहां एक दाढ़ी और चश्मे वाले भानुशाली को मैरून शर्ट पहने हुए, मर्चेंट को खींचते हुए देखा गया, वहीं गोसावी को आर्यन खान को शनिवार की देर रात इंटरनेशनल क्रूज टर्मिनल से बाहर खींचते हुए दिखाया गया, जिसने देश और बॉलीवुड इंडस्ट्री को झकझोर कर रख दिया है।

मलिक ने कहा कि भानुशाली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस, वर्तमान और पूर्व केंद्रीय और राज्य मंत्रियों और अन्य वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ तस्वीरें पोस्ट की थीं।



उन्होंने मांग की, "बीजेपी और एनसीबी को स्पष्ट होना चाहिए कि ये दो व्यक्ति कौन हैं और उन्हें तथाकथित जहाज छापे में क्यों देखा गया था। ये दोनों व्यक्ति फर्जी हैं और एनसीबी की छापेमारी केवल प्रचार को हथियाने के लिए एक धोखाधड़ी थी। उन दोनों के साथ बीजेपी के कनेक्शन क्या हैं।"


मलिक ने दोहराया कि सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के बाद से पिछले एक साल से एनसीबी केवल हाई-प्रोफाइल फिल्मी हस्तियों को निशाना बना रहा है, छापेमारी की जा रही है, प्रचार पर नजर रखी जा रही है, महाविकास अघाड़ी सरकार को बदनाम किया जा रहा है और बॉलीवुड के लोगों के मन में डर पैदा किया जा रहा है।



आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia