आपको पता भी नहीं चला और चुपके से 1 रुपया प्रति लीटर बढ़ा दिया गया पेट्रोल-डीज़ल का दाम 

चुनावी साल शुरु होते ही पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों को लेकर आम लोगों को करारा झटका दिया गया है। तेल कंपनियों ने चुपके से ग्राहकों को दी जाने वाली एक रुपए प्रति लीटर की छूट को खत्म कर दिया है।

नवजीवन डेस्क

एक तरफ केंद्र की मोदी सरकार आम लोगों को राहत देने का ढिंढोरा पीट रही है, दूसरी तरफ पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों को लेकर आम आदमी की जेब पर चुपके करारा प्रहार कर दिया गया है। न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक तेल कंपनियों ने प्रति लीटर एक रुपया दाम बढ़ा दिया है। दामों में यह बढ़ोत्तरी उस रियायत को वापस लेकर की गई है जो तेल कंपनियां अपने मार्जिन से ग्राहकों को दे रही थीं।

रॉयटर ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि तेल की कीमतों में लगातार हो रही कमी के कारण कंपनियों ने यह रियायत वापस लेने का फैसला लिया है। ध्यान रहे कि पिछले साल अक्टूबर में केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल की आकाश छूती कीमतों से आम लोगों को राहत देने की घोषणा की थी, और इसके तहत 5 रुपए प्रति लीटर तक दामों में कटौती की गई थी। सरकार ने एक्साइज ड्यूटी में 1.50 रुपये प्रति लीटर और तेल कंपनियों की तरफ से एक रुपए प्रति लीटर की कटौती करने की घोषणा की थी। साथ ही राज्य सरकारों से भी वैट के तौर पर 2.50 रुपये प्रति लीटर घटाने के लिए कहा था।

इसके बाद बीजेपी शासित राज्यों ने तुरत-फुरत वैट में कटौती का ऐलान कर दिया था और लोगों को कुछ राहत मिली थी। इसके अलावा हाल के दिनों में कच्चे तेल के दामों में आई नर्मी के कारण भी कुछ राहत घरेलू तेल के दामों में मिली थी। लेकिन अब तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल पर उनकी तरफ से दी जा रही छूट को बंद कर दिया है। रॉयटर के मुताबिक इस छूट को वापस लेने के से लगातार घाटे से जूझ रही कंपनियों को थोड़ी सी राहत मिलेगी। सूत्रों का कहना है कि कंपनियां इस छूटसे हुए घाटे की भरपाई मार्च तक कर पाएंगी।

गौरतलब है कि विश्व बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बीते कुछ महीनों के दौरान 40 फीसदी तक की नर्मी आई है, लेकिन इसके उलट देश में घरेलू पेट्रोल-डीजल के दामों में सिर्फ 18 फीसदी की ही कमी दर्ज की गई है।

विशेषज्ञों का अनुमान है कि कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट का दौर ऐसा ही रहा तो जल्द ही ब्रेंट क्रूड की कीमत 40 से 42 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकती है।

दूसरी तरफ मध्य वर्ग और आम लोगों की जरूरतों का ध्यान रखने के दावे करती नहीं थकने वाली सरकार ने हवाई ईंधन के दामों में एक ही झटके में 14 फीसदी की कमी कर दी है। नतीजा यह है कि हवाई ईंधन अब पेट्रोल से भी सस्ता हो गया है। सरकारी पेट्रोलियम कंपनियों की तरफ से जारी अधिसूचना के मुताबिक, विमान ईंधन का दाम 9,990 रुपये प्रति किलोलीटर यानी 14.7 प्रतिशत गिरकर 58,060.97 रुपये प्रति किलोलीटर पर आ गया है। यानी दिल्ली में पेट्रोल 68.65 रुपये प्रति लीटर है लेकिन हवाई इंधन अब सिर्फ 58.06 रुपये प्रति लीटर है।

Published: 2 Jan 2019, 5:31 PM
लोकप्रिय