गंगा के लिए 88 दिन से अनशन पर बैठे स्वामी सानंद के पत्र का जवाब देने तक का वक्त नहीं है प्रधानमंत्री के पास

17 सितंबर यानी सोमवार को गंगा के लिए अनशन करते स्वामी ज्ञान स्वरुप सानंद को 88 दिन हो गए। लेकिन, जिन्होंने दावा किया था कि उन्हें ‘मां गंगा ने वाराणसी में बुलाया था’, उन्हें इतनी भी फुर्सत नहीं मिली कि वे स्वामी जी के किसी पत्र का जवाब भी दे सकें।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

महेन्द्र पांडे

2011 में संन्यास लेने के पहले स्वामी ज्ञान स्वरुप सानंद का नाम डॉ जी डी अग्रवाल था और वर्त्तमान में नदियों की समस्याओं और उनके समाधान का उनसे बड़ा विशेषज्ञ देश में शायद ही कोई दूसरा हो। डॉ अग्रवाल ने 9 सितम्बर को प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में घोषणा की है कि यदि उनकी मांगे नहीं मानी गयीं तो वे 10 अक्टूबर से पानी भी त्याग देंगे।

डॉ अग्रवाल आईआईटी कानपुर में प्रोफेसर थे, फिर केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के शुरुआती दिनों में लंबे समय तक उसके सदस्य सचिव रहे। इसके बाद ग्रामोदय विश्वविद्यालय में प्रोफेसर रहे। इस सरकार के पहले तक डॉ अग्रवाल नदियों से और पर्यावरण से जुड़ी लगभग हरेक उच्च-स्तरीय कमेटी का हिस्सा रहे। पिछले कुछ वर्षों से, विशेष तौर पर संन्यास लेने के बाद उन्होंने अपना पूरा जीवन गंगा के लिए समर्पित कर दिया।

बीते करीब साढ़े चार वर्षों मेंं गंगा के बारे में जुमले को छोड़कर कुछ भी नहीं किया गया है, यह डॉ अग्रवाल के पत्रों से स्पष्ट होता है। इसी साल 6 अगस्त कि प्रधानमंत्री मोदी को लिखे गए पत्र में उन्होंने कहा है, “इन चार सालों में आपकी सरकार द्वारा जो कुछ भी हुआ, उससे गंगा जी को कोई लाभ नहीं हुआ। उसकी जगह कॉर्पोरेट सेक्टर और व्यापारिक घरानों को ही लाभ दिखाई दे रहे हैं। अभी तक आपने गंगा से मुनाफा कमाने की ही बात सोची है।”

गंगा के लिए 88 दिन से अनशन पर बैठे स्वामी सानंद के पत्र का जवाब देने तक का वक्त नहीं है प्रधानमंत्री के पास
स्वामी ज्ञानस्वरुप सानंद द्वार प्रधानमंत्री को लिखा गया पत्र

इस पत्र के पहले हिस्से में उन्होंने लिखा है, “मुझे यह विश्वास था कि आप प्रधानमंत्री बनने के बाद गंगा जी की चिंता करेंगे, क्यों कि आपने स्वयं बनारस में 2014 के चुनाव में यह कहा था कि ‘मुझे माँ गंगा ने बनारस बुलाया है’, उस समय मुझे विशवास हो गया था कि आप शायद गंगा जी के लिए कुछ करेंगे।”

डॉ अग्रवाल ने अपने पत्र में गंगा के विषय पर मनमोहन सिंह सरकार की प्रशंसा भी की है। उन्होंने पत्र में लिखा है, “मेरे आग्रह को स्वीकार करते हुए मनमोहन सिंह जी ने लोहारी-नागपाल जैसे बड़े प्रोजेक्ट रद्द कर किये थे, जो कि 90 प्रतिशत बन चुके थे तथा जिसमें सरकार को हजारों करोड़ की क्षति उठानी पड़ी थी। लेकिन, गंगा जी के लिए मनमोहन सिंह जी की सरकार ने यह कदम उठाया था। इसके साथ ही उन्होंने भागीरथी जी के गंगोत्री से उत्तरकाशी तक का क्षेत्र ईको-सेन्सिटिव जोन घोषित करा दिया था, जिससे गंगा जी को हनी पहुंचाने वाले कार्य नहीं हो।”

4 जुलाई को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को भेजे पत्र में डॉ अग्रवाल ने कहा है, “आप लोगों की गलत नीतियों और आर्थिक विकास लोलुपता से ही यह स्थिति आयी है।” इसी पत्र में उन्होंने गंगा के स्वतंत्रता पूर्व और बाद की स्थिति का भी आकलन किया है। “गंगा जी विशेष हैं, मात्र शास्त्रों में वर्णित होने और हमारी परंपरा में पूजित होने या आधुनिक चिंतन में मां की भांति अपनी घाटी का सृजन, पालन करने और इसका मल धोने के कारण नहीं, अपितु इस कारण कि गंगा जल गुणवत्ता में विशेष है, अति विशेष, अनुपम। स्वतंत्रता पूर्व तक की हमारी पीढ़ियां इस अनुपमता, विशेषतया गंगा जल के न सड़ने और इसकी रोगनाशक क्षमता को केवल परंपरा से मानती ही नहीं थीं, अपितु अपने अनुभव से जानती थीं। स्वतंत्रता बाद हमने इसपर वैज्ञानिक शोध कर समझाने और तब निर्णय लेने के बजाय, इसे मात्र अंधविश्वास कह कर नकार दिया और अन्य जल, नदियों की तरह योजना बनाने, निर्माण करने और दोहन में लग गए।”

स्पष्ट है कि नमामि गंगे और गंगा ने मुझे बुलाया है – महज चुनावी जुमले थे। इस सरकार को न तो गंगा की चिंता है और न ही इसे साफ़ करने वाले विशेषज्ञों की।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;