बंगाल में वोटिंग के बीच पीएम मोदी ने खेला ‘हिंदू कार्ड’, कूचबिहार रैली में इशारों-इशारों में दिया सियासी संदेश

पीएम मोदी ने आज बंगाल में तीसरे चरण के मतदान के बीच कूचबिहार में एक रैली में ममता पर हिंदू-मुस्लिम के नाम पर वोट मांगने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर हमने कहा होता कि सारे हिन्दू एकजुट हो जाओ और बीजेपी को वोट दो, तो अब तक आयोग का नोटिस आ जाता।

फोटोः @BJP4India
फोटोः @BJP4India
user

नवजीवन डेस्क

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के तहत आज राज्य की 40 सीटों पर मतदान जारी है। लेकिन तीसरा चरण आते-आते बंगाल की सत्ता की जंग में हिंदू-मुस्लिम राजनीति की खुलेआम एंट्री हो गई है और इसमें तड़का लगाने का काम खुद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है। पीएम मोदी ने आज बंगाल चुनाव के बीच ममता पर हमला करते हुए इशारों-इशारों में हिंदुओं से एकजुट होने की अपील कर दी है।

दरअसल पीएम मोदी ने आज बंगाल में तीसरे चरण के मतदान के बीच कूचबिहार में एक रैली में ममता बनर्जी पर हिंदू-मुस्लिम के नाम पर वोट मांगने का आरोप लगाया। अपने भाषण में मोदी ने कहा कि ममता बनर्जी को अब खुलेआम मुस्लिमों के वोट मांगने पड़ रहे हैं, जो बताता है कि मुस्लिम वोट बैंक उनके हाथ से निकल गया है। उन्होंने आगे कहा कि ममता को अब तक चुनाव आयोग का नोटिस नहीं मिला। लेकिन अगर हमने कहा होता कि सारे हिन्दू एकजुट हो जाओ और बीजेपी को वोट दो, तो अब तक हमें चुनाव आयोग का नोटिस आ जाता।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि ऐसा कहने पर चुनाव आयोग उन्हें आठ-दस दिन के लिए बैन कर देता। उनके बाल नोच लिए गए होते। सभी अखबारों के संपादकीय उनके खिलाफ हो गए होते। पीएम ने आग कहा कि नहीं पता कि चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस भेजा कि नहीं, लेकिन वह जिनके भरोसे चुनाव मैदान में थीं अब उन्हें ही कह रही हैं कि मुझे बचाओ। दीदी इसका मतलब यही है कि आप चुनाव हार रही हैं। पीएम मोदी ने आगे कहा कि दीदी को तिलक लगाने वालों, भगवा पहनने वालों से दिक्कत है। दीदी इस चुनाव में सेल्फ गोल कर चुकी हैं और उनके गुस्से को देखकर पता लगता है कि वो चुनाव हार गई हैं।

बता दें कि पीएम मोदी ने ममता के जिस भाषण पर मास्टरस्ट्रोक लगाया है वह उन्होंने तीन दिन पहले रायदिघी की एक चुनावी जनसभा में दिया था। दरअसल ममता ने यहां मुसलमानों को बीजेपी का खौफ दिखाते हुए ओवैसी और अब्बास सिद्दीकी के झांसे में न आखर टीएमसी के पक्ष में एकजुट होकर वोट देने की अपील की थी। ममता ने आरोप लगया था कि ओवैसी और अब्बास सिद्दीकी को बीजेपी की तरफ से हिंदू-मुस्लिम को बांटने के पैसे मिले हैं। ममता ने लोगों से कहा था कि अगर आप एनआरसी और बंटवारा नहीं चाहते हैं तो ओवैसी और अब्बास वोट मत देना। उन्हें वोट देने का मतलब है बीजेपी को वोट देना।

ममता के इसी बयान पर मास्टर स्ट्रोक खेलते हुए पीएम मोदी ने एक तरफ मुस्लिमों को एकजुट करने पर ममता बनर्जी पर निशाना साधा तो दूसरी तरफ यह कह दिया कि अगर हिंदुओं को एकजुट करने की अपील करते तो चुनाव आयोग का नोटिस आ जाता। इस तरह पीएम मोदी ने भले ही हिंदुओं से सीधे एकजुट होने की अपील नहीं की है, लेकिन बंगाल चुनाव के बीच ममता पर मुस्लिम कार्ड खेलने का आरोप लगाने के साथ ही हिंदू वोटरों को इशारों-इशारों में एक बड़ा राजनीतिक संदेश जरूर दे दिया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय