एससीओ सम्मेलन में पाक प्रधानमंत्री इमरान खान से नहीं मिलेंगे पीएम मोदी, भारत-पाक के बीच नहीं होगी कोई बैठक

भारत ने गुरुवार को कहा कि 13-14 जून को किर्गिस्तान के बिश्केक में होने वाले शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान के बीच कोई द्विपक्षीय बैठक की योजना नहीं है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

भारत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान के बीच 13-14 जून को बिश्केक में होने वाले शंघाई कॉपोरेशन ऑर्गनाइजेशन-एससीओ शिखर सम्मेलन के दौरान किसी भी द्विपक्षीय बातचीत की संभावना से इनकार किया है।

पीएम मोदी और इमरान खान दोनों ही 13 और 14 जून को शंघाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में होंगे। इस दौरान पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार पीएम मोदी, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। उनका इमरान खान के साथ बातचीत का कोई कार्यक्रम नहीं है।

दरअसल पाकिस्तान के विदेश सचिव और पहले भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त रह चुके सोहेल महमूद भारत आए हुए हैं। महमूद निजी यात्रा पर हैं। दरअसल अभी उनका परिवार यहीं पर हैं। वह इस बार अपने परिवार को वापस ले जा सकते हैं। बुधवार को ईद के मौके पर उन्हें जामा मस्जिद में नमाज पढ़ते देखा गया था।

इसके बाद दोनों देशों के बीच संबंध सुधरने और दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच द्विपक्षीय वार्ता होने के कयास लगाए जा रहे थे। महमूद की यात्रा के बाद कयास थे कि दोनों देशों के बीच पुलवामा हमले और बालाकोट की एयर स्ट्राइक के बाद बातचीत की शुरुआत हो सकती है, लेकिन अब भारत की ओर से इसकी कोई उम्मीद नहीं है।

विदेश मंत्रालय ने भी साफ किया कि सोहेल महमूद की यह निजी यात्रा थी और उनके साथ किसी भी अधिकारिक बैठक तय नहीं है।

इसके अलावा विदेश मंत्रालय ने साफ किया कि पाकिस्तान को कथनी और करनी को साबित करना होगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार से जब इस बाबत पूछा गया कि आतंंकी हाफिज़ सईद को पाकिस्तान के लाहौर में गद्दाफी स्टेडियम में ईद की नमाज़ नहीं पढ़ाने दी गई तो उन्होंने कहा कि “पहले भी हम ऐसा देखते रहे हैं, लेकिन पाकिस्तान को इस बार साबित करना होगा।”

लोकप्रिय