अयोध्या में बैंक अफसर महिला ने फांसी लगाकर दी जान, सुसाइड नोट में आईपीएस अफसर समेत लिखे तीन लोगों के नाम

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में बैंक की प्रोबेशन अफसर ने अपने कमरे में फांसी लगाकर जान दे दी। महिला ने सुसाइड नोट में अपने पूर्व मंगेतर के साथ ही एक आईपीएस अफसर और एक अन्य पुलिस वाले का नाम लिखते हुए उन्हें अपनी मौत के लिए जिम्मेदार बताया है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अयोध्या में पंजाब नेशनल बैंक में प्रोबेशनरी अफसर के पद पर तैनात एक युवती का शव उसके कमरे में फंदे से लटका मिला है। वहीं एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। इस नोट में महिला ने अपने पूर्व मंगेतर विवेक गुप्ता के अलावा एक आईपीएस अफसर एसएसएफ हेड आशीष तिवारी और फैजाबाद में तैनात एक पुलिस कर्मी अनिल रावत का नाम लिखते हुए इन तीनों को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया है। बताया जाता है कि आईपीएस अफसर भी वहीं तैनात थे जहां यह महिला काम करती थी।

महिला का नाम श्रद्धा गुप्ता बताया गया है। उसके कमरा दो दिन से नहीं खुला था जिसके बाद पड़ोसियों ने पुलिस को इत्तिला दी थी। कमरा खोलने पर उसका शव बरामद हुआ। पुलिस ने महिला के पूर्व मंगेतर को हिरासत में ले लिया है। वहीं जानकारी आ रही है कि पुलिस रात में इस महिला का पोस्टमार्टम कराना चाहती है।

इस आत्महत्या कांड से उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति का अनुमान लगाया जा सकता है जहां आईपीएस स्तर के पुलिस अधिकारी आम लोगों को इस हद तक प्रताड़ित कर रहे हैं कि उन्हें अपनी जान देना पड़ रही है। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस मामले में सरकार की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाया है।

उन्होंने ट्वीट में घटना का जिक्र करते हुए लिखा है कि "महिला की आत्महत्या उत्तर प्रदेश में बदहाल क़ानून-व्यवस्था का कड़वा सच है। इसमें सीधे एक आईपीएस अफ़सर तक का नाम आना बेहद गंभीर मुद्दा है। इसकी उच्च स्तरीय न्यायिक जाँच हो।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia