कोरोना संक्रमित को लेने पहुंची पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम पर मेरठ में हमला, मजिस्ट्रेट और इंस्पेक्टर घायल

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक इलाके को सील करने पहुंची पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम पर हमला कर दिया गया। इसमें सिटी मजिस्ट्रेट और एक पुलिस इंस्पेक्टर जख्मी हो गया। इस इलाके में कोरोना का एक मरीज मिलने के बाद सील करने की कार्यवाही की जा रही थी।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश के तमाम इलाकों को सील किया गया है। जिन इलाकों में कोरोना संक्रमित लोगों की जानकारी मिल रही है उन इलाकों को बफर जोन और हॉटस्पॉट घोषित कर वहां लोगों के आवागमन पर पूरी तरह पाबंदी लगाई जा रही है। इस कवायद में कई बार पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीमों को हिंसा का सामना भी करना पड़ रहा है।

उत्तर प्रदेश के मेरठ में ऐसी ही घटना सामने आई है। यहां कोरोना के मरीज को ले जाने के बाद इलाके को सील करने पहुंची पुलिस और मेडिकल टीम पर लोगों ने पथराव कर दिया। इसमें सिटी मजिस्ट्रेट और इंस्पेक्टर घायल हुए हैं। हालात बिगड़ने की जानकारी मिलने के बाद मेरठ के डीएम पुलिस फोर्स लेकर घटनास्थल पर पहुंचे।


जानकारी के मुताबिक यह मामला मेरठ के जली कोठी इलाके का है। पुलिस ने इस मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। उत्तर प्रदेश के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी अवनीश अवस्थी ने बताया कि जो भी लोग पथराव में शामिल थे, उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई होगी।

मेरठ के एसएसपी अजय साहनी ने भी लोकल मीडिया को बताया कि फोर्स ने पथराव वाले इलाके में फ्लैग मार्च निकाला। यहां सभी लोगों को घरों में रहने की चेतावनी दे दी गई है। इलाका पूरी तरह सील कर लिया गया। चारों लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। दोषियों पर रासुका लगेगी।

ध्यान रहे कि उत्तर प्रदेश में अब तक कोरोनावायरस के मामले 433 हो चुके हैं। मेरठ में इस बीमारी से 44 लोग संक्रमित पाए गए हैं। शनिवार को ही छह नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia