सावधान, कोलकाता में नाले के पानी में मिला पोलियो वायरस, बच्चों को अवश्य लगवाएं टीके

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा भारत को पोलियो मुक्त देश घोषित किए जाने के आठ साल बाद पोलियो वायरस कोलकाता के एक इलाके के गटर के पानी में पाया गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा भारत को पोलियो मुक्त देश घोषित किए जाने के आठ साल बाद पोलियो वायरस कोलकाता के एक इलाके के गटर के पानी में पाया गया है। हालांकि अभी तक किसी भी बच्चे के इस वायरस से प्रभावित होने की सूचना नहीं मिली है। 2011 में कोलकाता के पास हावड़ा जिले में एक पोलियो पीड़ित का पता चला था।

राज्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार, कोलकाता नगर निगम के वार्ड नंबर 15 (बोरो) के अंतर्गत आने वाले भीड़भाड़ वाले मटियाबुर्ज इलाके में गटर के पानी में पोलियो वायरस का पता चला है।


स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "विभाग के अधिकारी कोलकाता में विभिन्न इलाकों में गटर के पानी का नियमित परीक्षण करते हैं और हाल ही में मटियाबुर्ज क्षेत्र में गटर के पानी से पोलियो वायरस का पता चला है। इसके तुरंत बाद कोलकाता में एक आपातकालीन बैठक आयोजित की गई, जिसमें डब्ल्यूएचओ के पूर्वी भारतीय प्रतिनिधियों ने भाग लिया। यह पता लगाने के लिए क्षेत्र में गहन निगरानी करने का निर्णय लिया गया कि क्या कोई बच्चा इम्यून-डेफिशिएंसी सिंड्रोम से पीड़ित है। साथ ही, खुले में शौच और टीका नहीं लगवाने पर गिरफ्तार करने पर जोर दिया जाएगा।"

राज्य के सभी सरकारी मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों को निर्देश दिया गया है कि वे अपने यहां भर्ती सभी इम्युनिटी डेफिसिट बच्चों का स्टूल टेस्ट कराएं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia