मेघालय में स्टेडियम में PM मोदी की रैली को नहीं मिली इजाजत, BJP ने जिसका किया सहयोग, उसी सरकार ने कर दिया खेल?

पश्चिम गारो हिल्स जिले में दक्षिण तुरा के पीए संगमा स्टेडियम में प्रधानमंत्री की चुनावी रैली होनी थी। स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट ने निर्माण कार्य का हवाला देते हुए इजाजत देने से इनकार किया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

चुनावी राज्य मेघालय में सियासी पार्टियां अपनी जोर आजमाइश कर रही है। आरोप प्रत्यारोप का दौर भी जारी है, इन सबके बीच मेघायल में सियासत गर्म हो गई है, इसके पीछे की वजह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पीए संगमा स्टेडियम में रैली करने की इजाजत ना मिलना है। दरअसल खबर है कि पीएम नरेंद्र मोदी को चुनावी सभा संबोधित करने के लिए रैली करनी थी, जिसकी अनुमति मेघालय सरकार की तरफ से नहीं मिली।

आपको बता दें, पश्चिम गारो हिल्स जिले में दक्षिण तुरा के पीए संगमा स्टेडियम में प्रधानमंत्री की चुनावी रैली होनी थी। स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट ने निर्माण कार्य का हवाला देते हुए इजाजत देने से इनकार किया है।

पीएम मोदी को रैली की इजाजत ना मिलने पर बीजेपी ने इसे एक बड़ा अपमान बताया है। बीजेपी ने आरोप लगाया कि इस स्टेडियम को बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की तरफ से वित्त पोषित किया गया था। बीजेपी ने देश के प्रधानमंत्री को अनुमति न देने के एक्शन को निंदनीय बताया।

उधर, सीएम कोनराड संगमा ने आरोपों से इनकार किया और कहा कि पीएम की रैली की अनुमति से इनकार करने में उनके सरकार की कोई भूमिका नहीं थी। कोनराड संगमा ने कहा, "सभी अनुमतियां भारत के चुनाव आयोग की ओर से आती हैं, और उनके निर्देश के आधार पर, जिला प्रशासन कार्रवाई करता है। इसलिए एनपीपी या मेरी तरफ से कोई बात नहीं हुई है; इसमें हमारा नाम घसीटना पूरी तरह गलत है। यहां तक ​​कि मुझे भी अपनी कई रैलियों के लिए अनुमति नहीं मिली है।"

उन्होंने कहा, "पीएम मोदी की रैली में भारी भीड़ होना तय है इसलिए, मुझे लगता है कि जिला प्रशासन को लगा होगा कि अगर बहुत अधिक लोग आएंगे तो इससे मैदान को नुकसान होगा। वहां कोई पार्किंग भी नहीं है।"

बता दें एनपीपी और बीजेपी राज्य की सरकार में सहयोगी रही हैं। हालांकि, चुनाव से पहले दोनों ने अकेले सियासी मैदान में उतरने का ऐलान किया था।

मेघालय में 27 फरवरी को मतदान होना है। इससे पहले पीएम मोदी 24 फरवरी को शिलॉन्ग और तुरा में चुनाव प्रचार करने वाले थे। जिला निर्वाचन अधिकारी स्वप्निल टेम्बे ने बताया कि स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट ने कहा है कि स्टेडियम में निर्माण कार्य चल रहा है, ऐसे में इतनी बड़ी सभा करना ठीक नहीं है। इतना ही नहीं डिपार्टमेंट का दावा है कि साइट पर कंस्ट्रक्शन संबंधित सामान भी रखा है। यह सुरक्षा संबंधी चिंता का विषय भी हो सकता है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;