बिहार की वॉर में पोस्टर बने नए हथियार, आरजेडी के जवाब में जेडीयू के निशाने पर लालू परिवार

जेडीयू के पोस्टर में लालू प्रसाद और पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के बीच करीबी रिश्ते दिखाने की कोशिश भी की गई है। जेडीयू ने इस पोस्टर में लालू प्रसाद समेत पूर्व सीएम राबड़ी देवी और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए सवाल पूछा है कि आखिर अपराधी कौन?

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

आईएएनएस

बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राज्य की सियासत में शुरू पोस्टर वार थमने का नाम नहीं ले रहा है। बिहार की राजधानी पटना में जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) या राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) द्वारा हर रोज कोई न कोई नया पोस्टर जारी कर एक-दूसरे पर सियासी हमले बोले जा रहे हैं। दोनों दलों के बीच पिछले कुछ हफ्तों से चल रहे पोस्टर वार के बीच बुधवार को बिहार में सत्ताधारी पार्टी जेडीयू ने एक ताजा पोस्टर जारी किया, जिसमें भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाते हुए आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद और उनके परिवार पर निशाना साधा गया है।

जेडीयू के इस पोस्टर में लालू प्रसाद और पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के नजदीकी रिश्ते को भी दिखाने की कोशिश की गई है। जेडीयू ने इस नए पोस्टर में लालू प्रसाद समेत पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए सवाल पूछा है कि आखिर अपराधी कौन?

दरअसल जेडीयू ने इस पोस्टर के माध्यम से आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद, पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन और आरजेडी नेता राजबल्लभ यादव को सलाखों के पीछे दिखाया है। इस पोस्टर में राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव को भी दिल्ली के आईआरसीटीसी घोटाले में नाम आने के बाद पटियाला हाउस कोर्ट के चक्कर लगाते दिखाया गया है।

पोस्टर में यह भी दिखाने की कोशिश की गई है कि किस तरीके से तेजस्वी ने भी अवैध संपत्ति हासिल की, जो अब प्रवर्तन निदेशालय की नजरों में आ गया और उनकी जांच की जा रही है। इस पोस्टर में एक और तस्वीर में लालू प्रसाद को भी पैसों से भरे एक बोरे को अपने कंधे पर टांग कर ले जाते हुए दिखाया गया है।

दरअसल जेडीयू ने इस पोस्टर में पूरे लालू परिवार को निशाना बनाते हुए कहने की कोशिश की है कि अब भ्रष्टाचार को लेकर इनके खिलाफ किसी प्रमाण की जरूरत नहीं है, बल्कि ये 'भ्रष्टाचार स्व अभिप्रमाणित' हैं। गौरतलब है कि मंगलवार को आरजेडी ने नीतीश सरकार में हो रहे कथित घोटाले को लेकर जेडीयू पर निशाना साधा था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia