त्रिपुरा गई प्रशांत किशोर की टीम को पुलिस ने होटल में नजरबंद किया, टीएमसी ने लगाया बीजेपी पर आरोप

चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर की एक टीम को त्रिपुरा पुलिस ने उनके होटल में नजरबंद कर दिया है। पुलिस का कहना है कि इस टीम ने कोविड प्रतिबंधों का उल्लंघन किया है, जबकि तृणमूल कांग्रेस ने इसके लिए बीजेपी पर आरोप लगाया है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

प्रशांत किशोर की टीम आई-पैक के 21 सदस्यों को त्रिपुरा पुलिस ने नजरबंद कर लिया है। पुलिस का कहना है कि इन लोगों को कोविड नियमों का उल्लंघन करने के लिए सिर्फ पूछताछ के लिए रोका गया है। पुलिस के मुताबिक इस टीम के 22 लोग विभिन्न स्थानों पर घूम रहे थे। शहर में कोविड प्रतिबंध लागू है, इसलिए हम उनके शहर में आने और ठहरने के कारणों की पुष्टि करने के लिए पूछताछ कर रहे हैं। उन सभी की सोमवार को कोविड की जांच की गई, रिपोर्ट की प्रतीक्षा की जा रही है। उसके बाद फैसला लिया जाएगा।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक इस टीम को पूर्वी अगरतला के होटल वुडलैंज पार्क में नजरबंद किया गया है। पुलिस ने इन लोगों से पूछताछ की है और उन्हें होटल से बाहर जाने पर पाबंदी लगा दी है।

इस बीच तृणमूल कांग्रेस ने इसके लिए बीजेपी पर आरोप लगाया है। तृणमूल का कहना है कि यह टीम त्रिपुरा की राजनीतिक स्थिति का अनुमान लगाने के लिए और आने वाले चुनाव में तृणमूल की संभावनाओं का पता लगाने के लिए दौरे पर गई थी। टीएमसी की त्रिपुरा इकाई ने इसे लोकतंत्र पर हमला करार दिया है। पार्टी ने कहा कि पुलिस ने उन्हें उनके होटल में बंद कर दिया था। यह त्रिपुरा की संस्कृति नहीं है। आई-पैक की टीम रविवार रात से एक होटल में नजरबंद है। हालांकि, पुलिस इसे नियमित जांच का हिस्सा बता रही है।

वहीं ममता बनर्जी के भतीजे और तृणमूल सांसद अभिषेक बनर्जी ने भी इस मामले पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट में कहा है कि बंगाल चुनाव में तृणमूल की शानदार कामयाबी से बीजेपी घबराई हुई है, इसीलिए बीजेपी के नेतृत्व वाली त्रिपुरा सरकार ने ऐसी कार्यवाही की है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia