असम में मानसून-पूर्व बारिश, बाढ़ और भूस्खलन का कहर, अब तक 8 लोगों की मौत, 4 लाख से अधिक लोग प्रभावित

एएसडीएमए के एक बुलेटिन में कहा गया है कि 80,659 बच्चों और 1,39,541 महिलाओं सहित कम से कम 4,03,352 लोग प्रभावित हुए हैं और 26 जिलों के 1,089 गांवों में लगभग 1,900 घर आंशिक रूप से और पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। 39,558 से अधिक लोगों ने 89 राहत शिविरों में शरण ली है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

असम के उदलगुरी जिले में एक और व्यक्ति की मौत के मानसून-पूर्व बाढ़ और भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर आठ हो गई। बाढ़ से अब तक 26 जिलों में चार लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी मंगलवार को दी। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अधिकारियों ने कहा कि पिछले 24 घंटों में पश्चिमी असम के उदलगुरी जिले में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि इससे पहले दीमा हसाओ और लखीमपुर जिलों में बाढ़ और भूस्खलन में सात लोगों की मौत हो गई थी।

हालांकि, कछार जिले की एक अनौपचारिक रिपोर्ट में कहा गया है कि एक बच्चे और दो अधेड़ उम्र के लोगों सहित चार लोग अलग-अलग नदियों में बह गए।

एएसडीएमए के एक बुलेटिन में कहा गया है कि 80,659 बच्चों और 1,39,541 महिलाओं सहित कम से कम 4,03,352 लोग प्रभावित हुए हैं और 26 जिलों के 1,089 गांवों में लगभग 1,900 घर आंशिक रूप से और पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। 39,558 से अधिक लोगों ने 89 राहत शिविरों में शरण ली है।

सबसे अधिक प्रभावित जिलों में कछार, दीमा हसाओ, होजई, नगांव, चराईदेव, दरांग, धेमाजी, डिब्रूगढ़, बजली, बक्सा, विश्वनाथ और लखीमपुर शामिल हैं।

दीमा हसाओ जिले में पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) के पहाड़ी खंड में स्थिति मंगलवार को गंभीर बनी रही, क्योंकि पहाड़ी क्षेत्र में बारिश का कहर जारी है, जिससे लुमडिंग-बदरपुर सिंगल लाइन रेलवे मार्ग प्रभावित हुआ है।

एनएफआर के अधिकारियों ने कहा कि दुर्गम इलाकों के साथ निर्बाध बारिश ने बहाली और मरम्मत कार्य को बुरी तरह प्रभावित किया, जिसमें कई सप्ताह लग सकते हैं।

असम में लुमडिंग-बदरपुर खंड त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर और असम के दक्षिणी भाग को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने का एकमात्र मार्ग है।

रेल संपर्क पिछले चार दिनों से कटा हुआ है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia